bpl3भोपाल,  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मानवता के प्रति भोपाल गैस त्रासदी जैसा अपराध दुनिया में फिर कहीं नहीं हो, इसका संकल्प लेना चाहिए. किसी और शहर को तीन दिसंबर 1984 का भोपाल फिर नहीं बनने देंगे.
प्रकृति का अंधाधुंध शोषण रोका नहीं गया तो विनाश संभव है. विकास और पर्यावरण में संतुलन जरूरी है. मुख्यमंत्री चौहान गुरूवार को यहाँ बरकतउल्ला भवन (सेंट्रल लायब्रेरी) में भोपाल गैस त्रासदी की 31 वीं बरसी पर सर्वधर्म श्रद्धांजलि सभा को संबोधित कर रहे थे.

चौहान ने कहा कि विकास और पर्यावरण दोनों में संतुलन जरूरी है. विकास के स्वार्थ से वशीभूत होकर प्रकृति के अंधाधुंध शोषण से त्रासदी होती है. विकास की अंधी दौड़ में हमें सुरक्षा को नहीं भूलना चाहिये.

Related Posts: