नयी दिल्ली,

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने लोकसभा और विधानसभाओं में महिलाओं को उचित प्रतिनिधत्व देने के लिए महिला आरक्षण विधेकय शीघ्र पारित कराने की आज पुरजोर अपील की ।

श्री मुखर्जी ने न्यायमूर्ति कृष्णा अय्यर की 102वीं जयंती के मौके पर यहां आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि ब्रिटेन जैसे देश में महिलाओं को वोट का अधिकार मिलने में वर्षाें लग गये जबकि भारत में संविधान लागू होने के साथ ही देश की महिलाओं को यह अधिकार मिल गया ।

लेकिन संसद और विधानसभाओं में महिलाओं को उचित प्रतिनिधित्व देने का काम अभी अधूरा है ।
उन्होंने इसके लिए महिला आरक्षण विधेयक जल्द से जल्द पारित कराने की अपील की ।

श्री मुखर्जी ने बताया कि मंत्री रहते हुए उन्हें इस विधेयक को राज्यसभा में पेश करने में बड़ी कठिनाई आयी लेकिन उनका मकसद सिर्फ यह था कि किसीतरह यह एक बार ऊपरी सदन में पेश हो जाय।उन्हें पता था कि विपक्ष इसका विरोध करेगा और इस पर बहस नहीं हो पाएगी ।आखिरकार वह इसे पेश करने में सफल रहे ।उन्होंने कहा कि इसे ठंडे बस्ते से निकालकर अब पारित किया जाना चाहिए ।

श्री मुखर्जी ‘कैपिटल फाउंडेशन सोसाईटी और जस्टिस कृष्णा अय्यर फ्री लीगल एड सेल’ की ओर से ‘सामाजिक -आर्थिक न्याय और राज्य की नीति में दिशानिर्देशक सिद्धान्त’ विषय पर विशेष व्याख्यान दे रहे थे।कार्यक्रम का आयोजन कैपिटल फाउंडेशन सोसाईटी और जस्टिस कृष्णा अय्यर फ्री लीगल एड सेल ने किया था।

Related Posts: