नयी दिल्ली,

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि वर्ष 2017-18 में प्रत्यक्ष कर संग्रह बजट अनुमान 9.80 लाख करोड़ रुपये के आँकड़े को पार करते हुये 10,02,607 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है।

श्री जेटली ने ट्विटर पर कहा कि प्रत्यक्ष कर संग्रह में हुयी बढ़ोतरी ईमानदार करदाताओं की संख्या में वृद्धि का प्रमाण है।उन्होंने कहा कि प्रत्यक्ष कर से ऐतिहासिक राजस्व संग्रह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाली जिम्मेदार प्रशासन का भी प्रमाण है।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के कारण अर्थव्यवस्था का औपचारिकरण हुआ है और इससे आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की संख्या में भी एक करोड़ से अधिक की बढोतरी हुयी है।वर्ष 2016-17 में 5.43 करोड़ आईटी रिटर्न दाखिल किये गये थे जिनकी संख्या वर्ष 2017-18 में बढ़कर 6.84 करोड़ पर पहुंच गयी है।

Related Posts: