bpl3भोपाल,  महापौर द्वारा स्मार्ट सिटी के विषय पर निरंतर अलग अलग संगठनों से सुझाव प्राप्त करने के क्रम में रविवार को उन्होंने शासकीय कर्मचारियों के विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों से स्मार्ट सिटी हेतु सुझाव प्राप्त किये .

आलोक शर्मा ने कहा कि भोपाल शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए हम शहर के सभी वर्गों से सुझाव ले रहे हैं तथा इसमें कर्मचारी वर्ग के सुझावों की मुख्य भूमिका होगी . उन्होंने कहा कि कर्मचारी संगठन के अनुभव का लाभ प्राप्त कर निश्चित ही हम शहर को स्मार्ट सिटी चयन के प्रथम चरण में शामिल कर सकेंगे. वहीं निगम आयुक्त तेजस्वी नायक ने कहा कि शहर कर्मचारियों का भी शहर है ऐसे में बगैर कर्मचारियों के सुझावों के शहर स्मार्ट नहीं बन सकता है. इस अवसर पर अपर आयुक्त श्री संजय कुमार, महापौर परिषद के सदस्यगण व बड़ी संख्या में प्रदेश के विभिन्न कर्मचारी/अधिकारी संगठनों के अधिकारी मौजूद थे.

विभिन्न कर्मचारी संगठनों के पदाधिकारियों ने अनेक सुझाव दिए जिसमें प्रमुख रूप से रेटरो फिटींग के मॉडल को लेकर पुराने शहर का विकास किया जाए ताकि पुरानी धरोहर एवं संस्कृति को बरकरार रखा जा सके। अपेक्स के भुवनेश पटेल ने एस.पी.वी. में विभिन्न विभागों को सदस्य के रूप में रखने, निगम के अधिकारियों/कर्मचारियों की शक्तियों को विकेन्द्रीकरण करने व उन्हें भी स्मार्ट बनाने, फूड़ जोन में स्थानीय एवं मध्यप्रदेश के मशहूर खाद्य पदार्थों के स्टॉल स्थापित करने, अरूण ने सभी शासकीय कार्यालयों के एक स्थान पर व्यवस्थित करने, तात्या टोपे नगर के शासकीय आवासों के स्थान पर व्यवस्थित मार्केट और कार्यालय स्थापित करने, चार इमली क्षेत्र को सुरक्षित करने हेतु बाउंड्री वॉल बनाने, झुग्गीवासियों के लिए पक्के आवास, मनोज वाजपेयी ने शहर के बहार से आने वाले विद्यार्थियों के लिए नगर निगम द्वारा होस्टल निर्मित कराने और उन्हें निगम द्वारा ही संचालित, संधारित करने, सड़कों पर गंदगी रोकने हेतु चलित शौचालयों की व्यवस्था करने, फूड़ प्लाजा में शाकाहारी भोजन की व्यवस्था करने, आनन्द शर्मा ने नई कालोनियों में पार्क के साथ पार्किंग के स्थान आरक्षित करने को अनिवार्य करने, सड़कों पर बने किचन गार्डन्स को हटाने सहित कई स्मार्ट बनाने संबंधी सुझाव दिए।

इस अवसर पर अपर आयुक्त श्री संजय कुमार, महापौर परिषद के सदस्यगण व बड़ी संख्या में प्रदेश के विभिन्न कर्मचारी/ अधिकारी संगठनों के अधिकारी मौजूद थे. अंत में निगम आयुक्त द्वारा सभी कर्मचारी संगठनों का आभार व्यक्त किया.