भोपाल,

शनिवार की अल सुबह फजिर की नमाज के साथ ही रूहानियत की महफिल सज जायेगी, जिसके लिये करीब एक लाख लोग अपने बिस्तर लेकर ईंटखेड़ी स्थित इज्तिमागाह पहुंच गये हैं. देर रात मरकज से उलेमादीन भी ईंटखेड़ी के लिये कूच कर गये. लोगों के पहुंचने का सिलसिला पूरी रात चलता रहा.

आलमी तब्लीगी इज्तिमा की शुरूआत ताजुल मसाजिद से हुई थी, जहां दीन की दावत पर लोग आते थे. सन्  2000 तक इज्तिमाइयों की तादाद इतनी बढ़ गई कि मसाजिद परिसर छोटा हो गया.

इसके बाद दुनिया में इस्लाम के तीसरे सबसे बड़े जलसे के लिये ईंटखेड़ी को इज्तिमागाह बनाया गया. कल से शुरू होने वाले इस समागम में 55 एकड़ का पंडाल बनाया गया है, जहां तीन लाख लोगों के बैठने के इंतजाम हैं.

जमातों के आने का सिलसिला एक सप्ताह पहले शुरू हो गया था. इसमें दो दर्जन मुल्कों की जमातें भी शामिल हैं. इज्तिमा के लिये कई बस ऑपरेटर ने स्टैंड व स्टेशन से इज्तिमाइयों को नि:शुल्क सेवा प्रदान की है. इज्तिमा सोमवार को दुआ के साथ समाप्त होगा, जिसमें करीब 10 से 12 लाख लोगों के शामिल होने की उम्मीद है.

 

Related Posts: