fraud pushpendraकेंद्रीय मंत्रालय से आए पत्र के बाद हुआ खुलासा,  पुलिस के लिए आसान नहीं संपत्ति का पता लगाना

भोपाल,26 जून.चिटफंडी पुष्पेंद्र सिंह बघेल ने केंद्रीय मंत्रालय के फर्जी दस्तावेज तैयार कर मालवा-चंबल नामक कंपनी बनाई थी.पुलिस ने गिरफ्तारी के बाद केंद्रीय मंत्रालय से इसकी जानकारी मांगी थी.

इसका खुलासा केंद्रीय मंत्रालय से पत्र आने के बाद हुआ है. साथ ही आधा दर्जन से अधिक फर्जी कंपनी संचालित किए जाने की जानकारी भी पुलिस को लगी है.पुष्पेंद्र की गिरफ्तारी के बाद पुलिस यह नहीं समझ पा रही है कि वह जांच कहां से करे? पुष्पेंद्र की संपत्ति अकूत बताई जा रही है. एमपी नगर पुलिस पुष्पेंद्र को शनिवार को जिला न्यायालय में पेश करेगी.सूत्रों के मुताबिक पुलिस रिमांड अवधि बढ़ाए जाने को लेकर अर्जी लगाएगी.

चिटफंड से करोड़ों की संपत्ति अर्जित करने वाला पुष्पेंद्र सिंह बघेल बहुत चालक है.उसने राज्यवार अलग अलग नाम से चिटफंड कंपनियां बनाई थी.पुलिस को कई ऐसी जानकारी मिली है जिससे पुलिस यह नहीं भांप पा रही है कि इसकी जड़ें कहां तक है.मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, उडीसा, छत्तीसगढ़ सहित कई राज्यों में इसने चिटफंड का कारोबार फैला रखा था.