पुलिस दर्ज नहीं कर रही एफआईआर

नवभारत न्यूज भोपाल,

शासन ने गरीब महिला को उदारतापूर्वक भूखंड आवंटित किया और कुछ लोगों ने फर्जी दस्तावेज बनाकर उसे बेच दिया, जहां आज दो मंजिला भवन तैयार है. पीडि़त परिवार जब पुलिस के पास पहुंचा तो यह कह कर चलता कर दिया गया कि हाउङ्क्षसग बोर्ड से शिकायत मिलेगी तो एफआईआर दर्ज कर ली जायेगी.

1980 में एकाकी जीवन बिता रही गरीब महिला रईसा बेगम को हाउङ्क्षसग बोर्ड ने अशोका गार्डन में 450 वर्गफिट का भूखंड शासन की नीतियों के तहत आवंटित किया था. आर्थिक तंगी की वजह से रईसा मकान नहीं बना सकी और बाद में उनकी मौत हो गई.

मौत से पहले उन्होंने अपने भाई को मकान बनाने के लिये अधिकृत कर दिया था. पैसे न होने की वजह से वे भी मकान न बना सके. बाद में जब वे मकान बनाने पहुंचे तो पता चला कि यह भूखंड बिक गया है और खरीददारों ने अपना मकान भी बना लिया.

Related Posts: