parliamentनई दिल्ली. 6 जुलाई. कई सांसदों का मानना है कि संसद भवन में चल रहे कैंटीन पर दी जा रही सबसिडी समाप्त कर दी जानी चाहिए, क्योंकि इसके कारण सांसदों की बदनामी हो रही है. सूचना का अधिकार के तहत मांगी गई एक जानकारी से पता चला है कि संसद भवन में चल रहे करीब आधा दर्जन कैंटीन में 2013-14 में करीब 14 करोड़ रुपये की सबसिडी दी गई.

जिन सांसदों से इस बारे में बात की गई, उनमें से अधिकतर ने यह भी बताया कि बेमतलब के मुद्दे पर शोर मचाया जा रहा है, क्योंकि अधिकतर सरकारी कैंटीनों में इस तरह की सबसिडी दी जा रही है. इसके अलावा कई संस्थान हैं जहां पर इस तरह खाने पर सबसिडी दी जाती है.

Related Posts: