स्कूलों के 51 बच्चे और 51 शिक्षक होंगे कहानी उत्सव में शामिल

  • दो दिवसीय कहानी उत्सव 29 से

भोपाल, राज्य स्तरीय कहानी उत्सव 29-30 नवम्बर को प्रगत शैक्षिक संस्थान (आईईएसई) में आयोजित किया जाएगा. उत्सव में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा प्रदेश के स्कूलों में चयनित 51 बच्चे और 51 शिक्षक ज्ञानवर्धक और मनोरंजक कहानियां सुनाएंगे.

चयनित बच्चे और शिक्षक अपने-अपने जिलों से कहानी कहने की कला में विजेता बनकर भोपाल आ रहे हैं.प्रसिद्ध शिक्षाविद् एवं बाल कहानीकार गिजुभाई की जयंती के अवसर पर आयोजित की जा रहे राज्य स्तरीय कहानी उत्सव का शुभारंभ स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी करेंगे.

उत्सव के समापन अवसर पर 30 नवंबर को स्कूल शिक्षा मंत्री कुंंवर विजय शाह विजेता बच्चों और शिक्षकों को सम्मानित करेंगे.

प्रदेश के स्कूलों में स्वस्थ वातावरण के निर्माण और कक्षा शिक्षण को रोचक तथा प्रभावी बनाने की दृष्टि से पूरे प्रदेश में कहानी उत्सव का आयोजन शाला स्तर से लेकर राज्य स्तर तक किया जा रहा है.

उल्लेखनीय है कि गिजुभाई की शिक्षण विधि में उन्होंने कहानी को कक्षागत शिक्षण में आनेवाली अनेक समस्याओं का समाधान माना है. इसी संदर्भ में बच्चों के सर्वागींण विकास के उद्देश्य से राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा प्रदेश के सभी प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूलों में कहानी उत्सव का आयोजन किया जा रहा है.

कहानी शिक्षण के महत्व को देखते हुए प्राथमिक कक्षाओं, खासकर कक्षा 1 एवं 2 में शिक्षण के पूर्व कक्षा का प्रारंभ रोचक कहानी के साथ करने के निर्देश दिये गए हैं.

प्रथमत: 3 अगस्त को मैथलीशरण गुप्त जंयती पर प्रदेश में लगभग 1 लाख 14 हजार प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों में कक्षा 5 से 8 तक के विद्यार्थियों और शाला के शिक्षकों के अलग-अलग समूह में शाला स्तर कहानी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था.

शाला में कहानी सुनाने में प्रथम आने वाले विद्यार्थी और शिक्षक द्वारा 16 अगस्त को सुभद्रा कुमारी चौहान के जन्म-दिवस पर जनशिक्षा केन्द्र स्तरीय कहानी प्रतियोगिता में सहभागिता की गई. जनशिक्षा केन्द्र स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थी और शिक्षक 14 अगस्त हिन्दी दिवस पर विकासखण्ड स्तरीय प्रतियेगिता में शामिल हुए थे.

विकासखण्ड स्तरीय कहानी प्रतियोगिता के समूहवार प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान पर रहने वाले कहानी वाचक शिक्षकों एवं विद्यार्थियों को कहानी सम्राट मुंशी प्रेमचंद की पुण्यतिथि पर 8 अक्टूबर को आयोजित जिला स्तरीय कहानी उत्सव में शामिल हुए थे.

 

Related Posts: