shivrajभोपाल,  सदन में मंगलवार को बड़वानी आंखफोड़वा कांड की चर्चा हुई. स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कांग्रेस ने सरकार पर असंवेदनशील होने का आरोप लगाया. कांग्रेसी सदस्यों का कहना था कि सरकार ने सिविल सर्जन और कुछ कर्मचारियों को निलंबित कर मामले की इतिश्री कर दी. न तो वे खुद और न ही सवास्थ्य मंत्री मौके पर गए और न ही अपेक्षित कार्रवाई की गई. कांग्रेस ने स्वास्थ्य मंत्री से इस्तीफे की मांग की.

सत्ता पक्ष ने इसका पुरजोर विरोध करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने तत्काल इसका संज्ञान लेते हुए पीडि़तों के लिए बेहतर इलाज की व्यवस्था की बल्कि, दो-दो लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की. मुख्यमंत्री ने इस घटना में पीडि़त लोगों को आजीवन पांच हजार रुपये प्रति

Related Posts: