bsfनई दिल्ली,  पिछले 50 वर्शों से राष्ट्र की सेवा में निरंतर रत सीमा सुरक्षा बल ने आज अपनी स्थापना के 50 वर्श पूरे कर लिये. अपने इस ऐतिहासिक सफर को चिर स्मरणीय बनाने के उद्देष्य से इस बल ने अपने 50वें स्थापना दिवस को सीमा सुरक्षा बल स्वर्ण जयंती दिवस के रूप में मनाया.

मातृभूमि की रक्षा में दिये गये सीमा सुरक्षा बल, यानि कि ‘रक्षा की प्रथम पंक्तिÓ के अधिकारियों व कार्मिकों के अद्भुत षौर्य, अनुपम पराक्रम और अनुकरणीय बलिदान की अप्रतिम गाथाओं सहित राश्ट्र के प्रति इनकी प्रतिबद्धताओं की अद्भुत कहानियां भारतीय इतिहास के पन्नों में स्वर्णाक्षरों में अंकित रहेंगी. श्री राजनाथ सिंह, माननीय गृहमंत्री, भारत सरकार आज के इस समारोह के मुख्य अतिथि थे, जिन्होंने डी.के. पाठक, भारतीय पुलिस सेवा, महानिदेषक सीमा सुरक्षा बल सहित सीमा सुरक्षा बल के अन्य वरिश्ठ अधिकारियों/अधिकारियों, अधीनस्थ अधिकारियों, जवानों, अतिथियों व प्रहरी परिवार की उपस्थिति में सीमा सुरक्षा बल के उत्कृश्ट परेड की सलामी ली. परेड में सीमा सुरक्षा बल के 11 सीमान्तों सहित महिला दस्ते, मोटर साइकिल दल ‘जांबाज’, वाटर विंग, तोपखाना रेजिमेेंट, ऊँट दस्ते और ऊँट बैंड ने भाग लिया.

Related Posts: