zakirनई दिल्ली/ढाका,   बांग्लादेश सरकार ने भारत के विवादास्पद उपदेशक जाकिर नाइक के पीस टीवी (क्कद्गड्डष्द्ग ञ्जङ्क) के प्रसारण पर रोक लगा दी है। भारत में भी इस टीवी के प्रसारण पर पाबंदी लगी है।

मुंबई के जाकिर नाइक तब सरकारी निगरानी में आ गए जब यह खबर आयी कि उनके भाषण ने ही ढाका कैफे के हमलावरों में से कुछ को प्रेरित किया था। माना जाता है कि शुक्रवार को ढाका के एक रेस्तरां पर हमला करने वाले बांग्लादेशी आतंकवादियों में कुछ को नाइक के भाषणों से ही प्रेरणा मिली थी। इस हमले में 22 लोगों की जान चली गयी थी जिनमें ज्यादातर विदेशी थे। महाराष्ट्र सरकार ने मुस्लिम उपदेशक के भाषणों की जांच का आदेश दिया है। गृह मंत्रालय इन आरोपों की जांच करेगा कि आईआरएफ को मिले विदेशी चंदे का इस्तेमाल राजनीतिक गतिविधियों के लिए किया गया।

इस एनजीओ के धन का उपयोग लोगों को इस्लाम के प्रति और युवकों को आतंक की आकर्षित करने के लिए किया गया। ये सारी गतिविधियां एफसीआरए के प्रावधानों के विपरीत है। इस कानून का उल्लंघन करने पर दंडात्मक कार्रवाई का प्रावधान है। अधिकारी ने बताया कि गृह मंत्रालय आईआरएएफ के विदेशी चंदे के स्रोत की भी जांच करेगा। गृह मंत्रालय में एक ऑनलाइन याचिका दायर कर आईआरएएफ और उसके प्रमुख जाकिर नाइक के खिलाफ आरोपों की सूची दी गयी है।

Related Posts: