sensexमुंबई,  विदेशी बाजारों में आई तेजी के बीच स्थानीय स्तर पर वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) विधेयक पारित होने से उत्साहित निवेशकों की चौतरफा लिवाली की बदौलत आज शेयर बाजार डेढ़ फीसदी की तेजी पर रहा। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 11 जुलाई के बाद की एक दिन की सबसे बड़ी 363.98 अंक अर्थात 1.31 फीसदी की छलाँग लगाकर 28 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 28,078.35 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 132.05 अंक यानी 1.54 फीसदी की उछलकर 8,600 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के ऊपर 8,683.15 अंक पर बंद हुआ।

बैंक ऑफ इंग्लैंड के वर्ष 2009 के बाद पहली बार ब्याज दर में उम्मीद से अधिक 0.25 फीसदी की कटौती से विदेशी बाजारों की तेजी का असर सेंसेक्स और निफ्टी पर भी देखा गया। इसके अलावा आजादी के बाद देश के सबसे बड़े सुधार कर सुधार जीएसटी के राज्यसभा में पारित होने से भी निवेशधारणा मजबूत हुई है। हालाँकि, जीएसटी दर को लेकर निवेशक अभी भी सतर्क बने हुये हैं। शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 96.18 अंक की तेजी के साथ 27,810.55 अंक पर खुला।

लेकिन, कुछ देर बाद 27,795.74 अंक के न्यूनतम स्तर पर आ गया। इसके बाद हुई लिवाली के बल पर यह लगातार बढ़ता हुआ अंतिम कारोबारी घंटे में 28,110.37 अंक के उच्चतम स्तर पर पहुँच गया। अंत में पिछले दिवस के 27,714.37 अंक के मुकाबले 363.98 अंक उछलकर 28,078.35 अंक पर रहा। निफ्टी की शुरुआत भी मजबूत रही और यह 49.1 अंक की बढ़त के साथ 8,600.20 अंक पर खुला। हालाँकि, थोड़ी देर बाद यह 8,590.15 अंक के निचले स्तर पर आ गया। निवेशधारणा मजबूत रहने से यह आखिरी कारोबारी घंटे में 8,689.40 अंक के उच्चतम स्तर को छुआ।

अंत में गत दिवस के 8,551.10 अंक की तुलना में 132.05 अंक की छलाँग लगाकर 8,683.15 अंक पर रहा। बड़ी कंपनियों के मुकाबले बीएसई की छोटी और मझौली कंपनियों में लिवाली की रफ्तार अधिक तेज रही। मिडकैप 1.69 फीसदी चढ़कर 12,698.44 अंक और स्मॉलकैप 1.47 फीसदी ऊपर 12,306.59 अंक पर बंद हुआ। आईटी, टेक और दूरसंचार समूह की 0.18 फीसदी तक की गिरावट को छोड़कर बीएसई के शेष 17 समूहों में तेजी दर्ज की गई।

ऑटो समूह में सर्वाधिक 3.14 फीसदी की बढ़त रही। इसके अलावा पावर, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, वित्त, रियल्टी, बैंकिंग, इंडस्ट्रियल्स, ऊर्जा, बेसिक मटिरियल्स, पीएसयू, पूँजीगत वस्तुयें, धातु और तेल एवं गैस समूह के शेयर भी 2.74 फीसदी तक मजबूत रहे। बीएसई में कुल 2,906 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,841 में तेजी और 894 में मंदी रही जबकि 171 के भाव अपरिवर्तित रहे।

Related Posts: