shivrajभोपाल,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के रीवा संभाग में बाढ की स्थितियों की समीक्षा करते हुए कहा है लोगों को निकालने के लिये जरूरत पड़ने पर सेना की मदद लें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ रीवा संभाग में अति वृष्टि और बाढ़ की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल भी उपस्थित थे।

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि स्थिति पर लगातार नजर रखें। बाढ़ में फँसे लोगों को निकालने के लिये हेलीकॉप्टर की व्यवस्था करें। लोगों को सुरक्षित निकालने की सभी व्यवस्थाएँ की जायें। प्रभावित क्षेत्रों में बचाव दल लगातार काम करें तथा उन्हें जरूरत के अनुसार मोटर बोट भेजी जाये। कन्ट्रोल रूम चौबीस घंटे काम करे। राहत शिविरों में भोजन तथा अन्य व्यस्थाएँ सुनिश्चित की जायें।

बैठक में बताया गया कि रीवा संभाग में पिछले एक सप्ताह से जारी भारी बारिश के दौरान बचाव दलों द्वारा तीन हजार 200 लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। बाढ़ के पानी से भरे करीब 50 गांवों को खाली करवाया गया है। आपदा प्रबंधन तथा होमगार्ड के पच्चीस दल बचाव और राहत कार्यों में लगे हुए हैं। इन दलों के पास मोटर बोट तथा आवश्यक बचाव उपकरण हैं। बाण सागर बाँध के सभी गेट खोल दिये गये हैं। पिछले दिनों रीवा संभाग में हुई वर्षा में छह लोगों की मृत्यु हुई है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में 35 राहत शिविर लगाये गये हैं। शिविर में 20 हजार लोगों को ठहराया गया है।

Related Posts:

टीटी नगर स्टेडियम में भड़की आग, युवक की हुई मौत
भोपाल, इंदौर में मेट्रो रेल के लिये विस्तृत परियोजना
भाजपा विधायक घूम रहे गली मोहल्लों में, विकास यात्रा का एक हफ्ता पूरा
बरसात के चलते ग्रामीण क्षेत्र के स्कूल प्रागंण में कीचड़ से छात्र छात्राऐं परेशा...
अरेरा हिल्स बनी देशभक्ति की प्रतीक
देश की खुशहाली के लिए की सामूहिक अरदास