बारिश से किसान खुश, दूर होगी पानी की कमी

नवभारत न्यूज मुरैना/ग्वालियर,

अंचल में मौसम लगातार करवट बदल रहा है. लगातार ऊपर जा रहे पारे की चाल पर झमाझम बारिश ने पहरा लगा दिया है. मंगलवार को हुई बारिश के साथ चली सर्द हवाओं ने अंचल में फिर से हाड़ कंपाने वाली सर्दी का अहसास करा दिया है.

जनवरी के पहले सप्ताह में कडक़ड़ाती सर्दी ने लोगों को ठिठुरने पर मजबूर कर दिया था. लेकिन दूसरे सप्ताह से ही पारे ने अपनी चाल बदल दी थी. जिसके बाद से ही पारे की रफ्तार लगातार बढ़ रही थी.

तापमान बढऩे और तीखी धूप खिलने से लोगों को गर्मी का अहसास भी सताने लगा था. मंगलवार की सुबह अचानक मौसम ने करवट ली, आसमान में छाए काले बादलों ने दोपहर होते-होते रिमझिम फुहारें गिराना शुरू कर दिया. जिसके बाद रुक-रुककर हुई बारिश ने अंचल को फिर से सर्दी सहन करने पर मजबूर कर दिया. बारिश के साथ चली ठण्डी हवाओं ने अंचल में ठिठुरन भरी सर्दी बढ़ा दी है.

ओलावृष्टि हुई तो बर्बाद हो जाएंगी फसलें

मंगलवार को हुई बारिश से किसानों के चेहरे पर रौनक जरूर है, लेकिन ओलावृष्टि की आशंकाओं को लेकर उनके माथे पर चिंता की लकीरें भी दिखाई देने लगी है. बीते साल 26 जनवरी की रात हुई ओलावृष्टि ने अंचल में सैकड़ों गांवों की फसलें नष्ट कर दी थी.

फसलों को लाभ, किसानों के चेहरे पर आई रौनक

गेंहू सहित अन्य फसलों में इन दिनों सिंचाई का दौर चल रहा है. मंगलवार को हुई बारिश से फसलों को सिंचाई का लाभ मिलेगा और पैदावार भी अच्छी होने की उम्मीद है. कुदरत की इस मेहरबानी से किसानेां के चेहरे पर रौनक आ गई है.

Related Posts:

व्यापमं घोटाला: सीबीआई जांच पर सुनवाई करने से हाईकोर्ट का इनकार
देश का पहला राज्य बना मध्यप्रदेश
शहडोल में छात्रों से उपस्थिति सुधारने के नाम पर रिश्वत लेते पकड़ा गया आईटीआई शिक्...
ग्राम गादेर में डायरिया से दो की मौत, कुएं का दूषित पानी पी रहे हैं ग्रामीण
सम्पूर्ण मानव जीवन दर्शन हैं खजुराहो के मंदिर
विकास कार्यों में गुणवत्ता से नहीं होगा समझौता