bindraनई दिल्ली,   भारत को ओलंपिक इतिहास में अब तक का एकमात्र व्यक्तिगत स्वर्ण पदक दिलाने वाले निशानेबाज अभिनव बिंद्रा अगस्त में होने वाले रियो ओलंपिक में भारतीय दल के ध्वजवाहक होंगे और इन खेलों में अपनी स्पर्धा के बाद वह संन्यास ले लेंगे.

अपना पांचवां ओलंपिक खेलने जा रहे बिंद्रा को पांच अगस्त को रियो ओलंपिक के उद्घाटन समारोह के लिए भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया है. 33 वर्षीय बिंद्रा ने ट्विटर पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा -ओलंपिक खेलों में देश का ध्वजवाहक बनना एक बहुत बड़ा सम्मान है.

मैं शुक्रगुजार हूं कि मुझे इस सम्मान के लिए चुना गया है. बिंद्रा ने साथ ही यह भी पुष्टि कर दी कि वह आठ अगस्त को संन्यास ले लेंगे. रियो ओलंपिक पांच अगस्त से शुरू होने जा रहे हैं. बिंद्रा ने 2008 के बीजिंग ओलंपिक में 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था, जो ओलंपिक इतिहास में भारत का अब तक का एकमात्र व्यक्तिगत स्वर्ण पदक है.

बिंद्रा ने सात राष्ट्रमंडल और तीन एशियाई खेल पदक भी जीते हैं. वह आईएसएसएफ की एथलीट समिति के अध्यक्ष भी हैं.

रियो में इस बार भारत का सबसे बड़ा ओलंपिक दल उतरने जा रहा है. 10 जून तक 96 खिलाड़ी रियो के लिए क्वालीफाई कर चुके हैं, जो 2012 के लंदन ओलंपिक की 83 की संख्या से 13 ज्यादा हैं. भारतीय खिलाडिय़ों की संख्या 100 के पार जाने की उम्मीद है.

 

Related Posts: