cmभोपाल,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विद्युत संबंधी शिकायतों का त्वरित निराकरण करने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया है.

मुख्यमंत्री चौहान ने तीनों विद्युत वितरण कंपनियों के सीएमडी से विद्युत आपूर्ति व्यवस्था की जानकारी लेकर उन्हें व्यवस्था सुधारने के निर्देश दिए, ताकि जनता को कोई परेशानी न हो। उन्होंने जल हुए और खराब ट्रांसफार्मर को सप्ताह भर में बदलने एवं किसानों को स्थाई पंप कनेक्शन देने की कार्य-योजना बनाने के भी निर्देश दिए. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि किसानों को गुणवत्तापूर्ण बिजली उपलब्ध करवाना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है. इसके लिए सिंचाई पंपों के फीडर भी अलग किए गए हैं. 50 प्रतिशत की बजाय मात्र 10 प्रतिशत राशि जमा करने पर तत्काल खराब ट्रांसफार्मर बदले जाए. इच्छुक किसानों को अस्थाई पम्प कनेक्शन के लिए मात्र दो माह की राशि जमा करवाई जाए. इसके साथ ही किसानों को स्थाई पम्प कनेक्शन देने की दीर्घकालीन योजना बनाई जाए. इसमें अन्य योजनाओं का कन्वर्जेंस भी किया जाए. इससे सभी किसानों को स्थाई पम्प कनेक्शन मिल सके. उन्होंने सोलर पम्प को भी प्रोत्साहित करने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया.

दिये जा रहे हैं दो माह के अस्थाई पंप कनेक्शन : इस दौरान बताया गया कि चार माह के बजाय दो माह के लिए अस्थाई पम्प कनेक्शन दिए जा रहे हैं. इससे किसानों को कम राशि जमा करना पड़ रही है.

प्रदेश में इस वर्ष 84 हजार अस्थाई पम्प कनेक्शन दिए जा चुके हैं, जबकि 20 लाख स्थाई पम्प कनेक्शन हैं. इसी तरह मात्र 10 प्रतिशत राशि जमा करवाकर 1547 खराब ट्रांसफार्मर बदले गए हैं. इस मौके पर ऊर्जा मंत्री राजेन्द्र शुक्ल, मुख्य सचिव अन्टोनी डिसा, अपर मुख्य सचिव वित्त एपी श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव ऊर्जा मनु श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के सचिव विवेक अग्रवाल भी उपस्थित थे.

Related Posts: