चेन्नै में गुमनामी की जिंदगी जी रहे पूर्व चुनाव आयुक्त

चेन्नै,

चुनावों में सुधार और ज्यादा पारदर्शिता लाने के लिए पूरा चुनावी सिस्टम बदलने वाले पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टीएन शेषन अब चेन्नै में गुमनामी की जिंदगी जी कर रहे हैं. पिछले कुछ सालों से वह कभी अपने सूने घर में रहते हैं, तो कभी घर से 50 किलोमीटर दूर ओल्ड एज होम में.

शेषन ने 1990 के दशक में मुख्य चुनाव आयुक्त का पद संभाला था. उस दौरान बिहार में चुनावों में बड़ी संख्या में बूथ कैप्चरिंग, हिंसा और गड़बड़ी होती थी. शेषन ने इसे चुनौती के रूप में लिया. निष्पक्ष चुनाव के लिए पहली बार उन्होंने चरणों में वोटिंग कराने की परंपरा शुरू की. पांच चरणों में बिहार का विधानसभा चुनाव कराया. वह चुनाव मील का पत्थर बना था.