गोरखपुर,  उत्तर प्रदेश में गोरखपुर के बाबा राघव दास (बीअारडी) मेडिकल कालेज में पिछले चार दिनों में 58 बच्चों की मृत्यु हो गयी।अस्पताल में मेडिसिन विभागाध्यक्ष प्रो0 डी के श्रीवास्तव ने आज यहां पत्रकारों को बताया कि एक से चार नवम्बर के बीच अस्पताल में 58 बच्चों ने दम तोड़ा है।

इनमे से 32 बच्चे एक माह से भी कम उम्र के थे। इससे पहले अगस्त में मेडिकल कालेज अस्पताल में एक हफ्ते के भीतर 60 से ज्यादा बच्चों की मृत्यु से सरकार और प्रशासन में खलबली मच गयी थी।

आक्सीजन की कमी के कारण एक ही दिन में 30 से अधिक बच्चों ने यहां दम तोड़ दिया था। इस साल मेडिकल कालेज अस्पताल में अब तक 1317 बच्चों की मृत्यु हो चुकी है। अस्पताल के रिकार्ड के अनुसार जनवरी में 152, फरवरी में 122, मार्च में 159, अप्रैल में 123, मई में 139, जून में 137, जुलाई में 128 और अगस्त में 325 बच्चों की मृत्यु हुयी थी।

पूर्वी उत्तर प्रदेश में सालों से एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) और जापानी इंसेफेलाइटिस (जेई) दहशत का पर्याय बना हुआ है। बीमारी से गोरखपुर, महराजगंज, कुशीनगर, बस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर, देवरिया और मऊ सर्वाधिक प्रभावित हैं।

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम निदेशालय (एनवीबीडीसीपी) की वेबसाइट से प्राप्त आकड़ों के अनुसार वर्ष 2010 में उत्तर प्रदेश में एईएस के 3540 मामले सामने आये थे जिसमें 494 बच्चों की मृत्यु हो गयी थी। इस दौरान जेई के 325 मामलों में 59 ने दम तोड दिया था।

इसी प्रकार 2011 में एईएस के 3492 मामलों में 579 लोगों की मृत्यु हो गयी थी जबकि जेई के 224 मामलों में 27 बच्चों की मृत्यु हो गयी थी। 2012 में एईएस के 3484 मरीजों 557 की मृ़त्यु हो गयी थी जबकि जेई के 139 मामलों में 23 ने दम तोड दिया था।

बीमारी को काबू पाने के तमाम उपायों को धता बताते हुये दिमागी बुखार का प्रभाव दिनोंदिन बढ़ता गया। वर्ष 2013 में एईएस से ग्रसित 3096 मामलों में 600 मरीजो की मृत्यु हुयी। इस अवधि में जेई के 281 मामलो में 47 मरीजो ने दम तोड़ दिया। 2014 में एइएस के 3329 मामले सामने आये जबकि जेई के 191 मामलों में 34 मौत का शिकार बने।

वर्ष 2015 में एईएस से पीड़ित 2894 मरीजों में से 479 ने दम तोड़ दिया जबकि जेई के 351 मामलो में 42 की मृत्यु हो गयी। वर्ष 2016 में एईएस के 3919 मामलो में 621 मरीजों की जान गयी। इस दौरान जेई से पीडित 410 मरीजों में से 73 ने दम तोड़ दिया।

Related Posts: