ajit_jogiछत्तीसगढ़,  एक साल पहले हुए विधानसभा के उपचुनाव में बीजेपी ने जीत हासिल की थी. उस वक्त ऐन मौके पर कांग्रेस के उम्मीदवार ने अपनी उम्मीदवारी वापस ले ली थी.

इस दौरान प्रदेश के बड़े नेताओं के बीच फोन पर हुई बातचीत के कई टेप सामने आए, जिनके आधार पर यह आंशका जताई जा रही है कि नाम वापस लेने के लिए पैसों का लेन-देन हुआ था. इस मामले में कांग्रेस ने अजीत जोगी को कारण बताओ नोटिस जारी करने की बात कही है और मुख्यमंत्री रमन सिंह से इस्तीफा मांगा है.

एक खबर के मुताबिक कई ऑडियो टेप के जरिए चुनाव में फिक्सिंग का दावा किया गया है. इन टेपों में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, उनके बेटे अमित जोगी और मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता के बीच हुई बातचीत के अलावा कांग्रेस उम्मीदवार मंतूराम पावर (नाम वापस लेने वाले उम्मीदवार) और जोगी के पुराने वफादार फिरोज सिद्दीकी की बातचीत का दावा किया गया है.

13 सितम्बर 2014 को छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के अंतागढ़ विधानसभा सीट पर उप चुनाव हुआ था. इसमें कांग्रेस ने मंतुराम पवार को बीजेपी ने भोजराज नाग को अपना उम्मीदवार बनाया था. कांग्रेस के मंतूराम पवार ने चुनाव के ठीक पहले अपना नाम वापस ले लिया था और बीजेपी इसके बाद आसानी से जीत गई.
बातचीत की रिकॉर्डिंग इसी सीट को लेकर हुई कथित सौदेबाजी की है.

Related Posts: