पुलिस ने किया मामला दर्ज

भोपाल,

बेटी को जन्म देने के बाद से ही पति व उसके परिजनों ने परेशान करना शुरू कर दिया. हद तो तब हो गई जब पति उसे सगी बहन के यहां छोड़ आया और फिर लेने नहीं गया.

जब महिला ने कारण पूछा तो कहने लगा कि बेटी पैदा हुई है, इसलिए साथ नहीं ले जाऊंगा. पति का कहना था कि पहले मायकेवालों से 50 हजार व मोटरसाइकिल दिलवाओ, इसके बाद ही साथ रखूंगा. महिला थाने पहुंची और शिकायत दर्ज कराई. महिला थाना पुलिस ने आरोपी पति, सास सहित अन्य तीन के विरूद्व मामला दर्ज कर लिया है.

महिला थाना पुलिस से मिली जानकारी अनुसार आलिया उम्र 25 वर्ष की शादी फरवरी 2015 में आचार्य नरेंद्र देव नगर में रहने वाले नजीर खान से हुई थी. नजीर खान की जहांगीराबाद में सूटकेश की दुकान है. शादी के कुछ समय बाद ही पति के अलावा सास जाहिदा, जेठ समीर, जेठानी नीलम व देवर नसीर दहेज लाने के लिए प्रताडि़त करने लगे.

जब नवविवाहिता ने यह वाक्या अपने पिता को बताया तो उन्होंने दो किस्तों में 30 हजार और 20 हजार रुपए ससुराल पक्ष को दे दिए. इसके बाद भी वे 50 हजार व मोटरसाइकिल दहेज में लाने के लिए लगातार प्रताडि़त करते रहे.

फरियादिया के मुताबिक ससुरालीजन कई दिनों तक भूखा रखते थे और तरह तरह से परेशान करते थे. महिला थाना पुलिस ने आवेदन मिलने के बाद मामला दर्ज कर लिया है.

जबरन छोड़ गए मायके

फरियादिया ने बताया कि दिसंबर 2015 में उसने एक बेटी को जन्म दिया, ससुरालीजनों ने इसके बाद उसे अत्याधिक प्रताडि़त करना शुरू कर दिया. एक दिन इन्होंने मिलकर मारपीट की, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई, जिसके चलते 5 दिनों में हमीदिया अस्पताल में भर्ती रही, जिसकी शिकायत ऐशबाग थाने में दर्ज कराई थी.

इसके बाद पति उसे जबरदस्ती मायके छोड़ गया. चार महीने तक जब कोई लेने नहीं आया तो विवाहिता स्वयं ससुराल पहुंच गई, जहां से उसे यह कहकर भगा दिया कि जब तक मांग पूरी नहीं हो जाती, यहां मत आना.

Related Posts: