bpl2भोपाल,  एक युवक को भेल में नौकरी दिलाने का झांसा देकर डेढ़ लाख रुपए और ओरिजनल दस्तावेज हड़पने का मामला सामने आया है. युवक का आरोप है जालसाज ने उसके ओरिजनल दस्तावेज रख लिए हैं. पैसा वापस मांगने पर एक ऐसे बैंक का चैक थमा दिया, जिसकी शाखा बंद हुए पांच वर्ष हो चुके हैं.

भेल स्थित निजामुद्रीन कॉलोनी निवासी प्रभाकर द्विवेदी को मोहम्मद शाहिद खान ने भेल में नौकरी लगवाने का वादा किया .शाहिद ने बताया कि उसने भेल सब मैनेजर से नौकरी की बात कर ली है. मैनेजर ने डेढ़ लाख रुपए मांगे हैं. नौकरी मिलने की उम्मीद से प्रभाकर ने यह राशी 50 हजार रुपए की तीन किश्तों में दी थी. शाहिद ने उससे हाई स्कूल और 12वीं की ओरिजनल मार्कशीट यह कहकर ले ली,कि वह मैंनेजर को दिखाने के बाद उसे वापस कर देगा. मगर शाहिद ने ना तो मार्र्कशीट वापस की, ना नौकरी दिलाने के लिए मांगी रकम. बहुत कहने के बाद जालसाज शाहिद रकम वापस लौटाने के लिए तैयार हुआ.

शाहिद ने उसे स्टेट बैंक ऑफ इंदौर शाखा शाहजहांनाबाद का चैक थमा दिया. उसने यह चैक 5 दिन बाद लगाने की बात कही. प्रभाकर ने वह अपने चैक बैंक ऑफ बडौदा के खाते में जमा करा दिया. जब चार दिनों तक खाते में रुपए नहीं आए तो पीडित ने बैंक ऑफ बडौदा पहुंच चैक की जानकारी ली. बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि स्टेट बैंक ऑफ इंदौर शाखा शाहजहांनाबाद पांच वर्ष पहले बंद हो गई थी.

बेरोजगार युवक से रुपए और दस्तावेज हड़पने के मामले पर मोहम्मद शाहिद से मोबाइल 7247577286 पर संपर्क किया गया, मगर आरोपी का फोन बंद मिला.

उधर बेरोजगार युवक प्रभाकर ने बताया कि शाहिद ने उसकी आईटीआई की ओरिजनल मार्कशीट अपने पास रख ली है.कई बार मांगने के बाद भी वह वापस नहीं कर रहा है.

Related Posts: