अशोकनगर,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कहा कि राज्य में बेहतर कार्य करने वाले अधिकारियों कर्मचारियों को सम्मानित किया जाएगा और बेहतर कार्य नहीं करने वाले अधिकारियों कर्मचारियों को सेवा से हटाने के बारे में भी सोचा जाएगा।

श्री चौहान ने राज्य के अशोकनगर जिले के मुंगावली में तीन सौ 89 करोड रूपयों से अधिक लागत वाली पाइप कैनाल योजना का शिलान्यास किया। इस मौके पर श्री चौहान ने अपने संबोधन में कहा कि राज्य सरकार किसानों की हितैषी है और वह लगातार उसके हित में निर्णय लेती आ रही है। सरकार चाहती है कि किसानों के नामांतरण और भूमि संबंधी प्रकरणों का निपटारा तय समय सीमा में हो और इस कार्य में लापरवाही करने वाले अधिकारियों कर्मचारियों को बख्शा नहीं जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी हाल ही में राज्य सरकार ने बेहतर कार्य नहीं करने वाले दो अधिकारियों को सेवा से हटा दिया है। अधिकारियों कर्मचारियों को बेहतर ढंग से और किसानों तथा आम लोगों के हितों में कार्य करने की हिदायत दी गयी है और एेसा नहीं करने वाले अधिकारियों की पहचान की जाएगी। इनके खिलाफ नियमों के अनुरूप सेवा से हटाने की कार्रवाई भी की जाएगी। वहीं बेहतर कार्य करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों का सार्वजनिक तौर पर सम्मान किया जाएगा।

श्री चौहान ने राज्य सरकार की ओर से कल शुरू की गयी भावांतर योजना का भी जिक्र किया और कहा कि इस योजना का लाभ किसानों को निश्चित तौर पर मिलना है। उन्होंने दावा किया कि सरकार किसानों को नुकसान नहीं होने देगी। उनका नुकसान सरकार अपने ऊपर लेगी और इसी उद्देश्य से राज्य सरकार ने भावांतर योजना शुरू की है। उन्होंने किसानों के हित में उठाए गए अन्य योजनाओं की जानकारी भी दी।

श्री चौहान ने इस अंचल के पिपरई में डिग्री कालेज खोलने, पिपरई को नगर परिषद बनाने, मुंगावली कालेज में स्नातकोत्तर कक्षाएं शुरू करने, बहादुरपुर को नयी तहसील बनाने और बहादुरपुर में उपमंडी बनाने के अलावा अनेक घोषणाएं कीं। उन्होंने बताया कि संपूर्ण अशोकनगर जिले को सूखाग्रस्त घोषित किया जा चुका है।

मुंगावली विधानसभा क्षेत्र में निकट भविष्य में विधानसभा उपचुनाव संभावित हैं। यहां से कांग्रेस विधायक महेंद्र सिंह कालूखेडा का कुछ समय पहले निधन हो गया है। श्री कालूखेडा, गुना संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के नजदीकी थे।

मुंगावली गुना संसदीय क्षेत्र के अधीन ही आता है और यह श्री सिंधिया का परंपरागत गढ है। माना जा रहा है कि राज्य में सत्तारूढ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) मुंगावली उपुचनाव में जीत के लिए कोई कसर नहीं छोडना चाहती है। भाजपा के अनेक नेता और मंत्री अभी से इस क्षेत्र में अपने काम में जुट गए हैं।

Related Posts: