sbiचेन्नई,   अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ(एआईबीईए),अखिल भारतीय बैंक अधिकारी संघ (एआईबीओए) और अन्य बैंक अधिकारी संघ ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया(एसबीआई) में सहयोगी बैंको के विलय और आईडीबीआई बैंक के प्रस्तावित निजीकरण के खिलाफ बारह और तेरह जुलाई को दो दिवसीय हडताल वापस ले ली है।

एआईबीईए के महासचिव सीएच वेंकटचलम ने यूनीवार्ता को यहां बताया कि दिल्ली उच्च न्यायालय की ओर से इस मामले में कल जारी अंतरिम आदेश के बाद बैंक कर्मचारी यूनियनों ने फिलहाल हडताल स्थगित करने की घोषणा की है। उच्च न्यायालय ने अपने एक अंतरिम आदेश के तहत सभी बैंक कर्मचारियों और अधिकारियों के संघों की हड़ताल पर प्रतिबंध लगा दिया था। बारह जुलाई को भारतीय स्टेट बैंक के पांच सहयोगी बैंकों के कर्मचारियों ने हड़ताल घोषित की थी जबकि 13 जुलाई को सभी बैंकों के कर्मचारियों की हड़ताल प्रस्तावित थी।

यह हड़ताल सहयोगी बैंकों के एसबीआई में विलय के विरुद्ध बुलाई गयी थी। केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने गत 15 जून को सहयोगी बैंकों के एसबीआई में विलय को मंजूरी दी थी। गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पिछले महीने ही एसबीआई के पांच सहयोगी बैंकों के उसमें विलय को मंजूरी दी थी। एसबीआई के पांच सहयोगी बैंक स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक आॅफ हैदराबाद,स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक आॅफ पटियाला तथा स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर हैं। संघ का आरोप है कि सरकार कुछ और छोटे बैंकों का भी बड़े बैंकों में विलय करने की योजना बना रही है।