atmबैतूल,   मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में अब एनी टाइम मेडिसिन (एटीएम) मशीन के माध्यम से दवाएं उपलब्ध होंगी।

बैतूल में सफल रहने के बाद ये परियोजना पूरे प्रदेश में लागू किए जाने की संभावना है।

स्वास्थ्य सूत्रों के मुताबिक टेलीमेडिसिन के जरिए अब दूर-दराज के क्षेत्रों में दवाइयां उपलब्ध कराने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय व राज्य सरकार मिलकर एटीएम मशीनें लगाने जा रही है। नजदीकी मेडिकल कालेज या बड़े अस्पताल में बैठे विशेषज्ञ डॉक्टर जैसे ही दवा प्रिस्क्राइब करेंगे, एटीएम मशीन से वह दवा निकल आएगी। मरीज इन दवाइयों को लेकर डॉक्टर के बताए तरीके से सेवन कर सकेंगे। पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर जल्द ही बैतूल के पांच प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में ये मशीनें लगाई जाएंगी।

सूत्रों ने बताया कि यह महत्वाकांक्षी योजना नेशनल हेल्थ मिशन के अधीन आने वाले नेशनल हेल्थ सिस्टम रिसोर्स सेंटर शुरू कर रहा है। अगले कुछ दिन में राजधानी भोपाल स्थित स्वास्थ्य संचालनालय में प्रदर्शन के बाद इन्हें बैतूल जिले में लगाया जाएगा। इसके लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के कम्पाउंडर व एएनएम को प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। इस एटीएम में जरूरी दवाइयां प्री-लोड रहेंगी। डॉक्टर मरीज की बीमारी को सुनकर प्रिस्क्रप्शन देगा और मशीन को कमांड देगा। इसके बाद जितने दिन की दवाइयां लिखी गई होंगी, वह मशीन से बाहर निकल जाएंगी।

स्वास्थ्य सूत्रों के मुताबिक जिन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में डॉक्टर नहीं हैं या जिन क्षेत्रों में विशेषज्ञ डॉक्टरों की कमी है, वहां टेलीमेडिसिन का नेटवर्क तैयार किया जाएगा। इसके तहत दूर-दराज बैठा मरीज कान्फ्रेंसिंग के जरिए मेडिकल कालेज के डॉक्टर से सीधे मुखातिब होता है।

Related Posts: