Priyanka Chopraफिल्म अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा का कहना है कि बॉलीवुड में अब केवल मसाला फिल्में नहीं बनतीं, बल्कि यथार्थवादी फिल्में भी बनाई जा रही हैं. वहीं, हिंदी फिल्मों की नायिकाएं अब पर्दे की शोपीस मात्र नहीं रह गईं, बल्कि सशक्त भूमिकाएं निभा रही हैं. प्रियंका ने कहा कि यह बदलाव मांग एवं पूर्ति के नियम के परिणामस्वरूप है. प्रियंका ने बताया, मेरा मानना है कि जहां मांग होती है, वहां पूर्ति होती है. हमारे दर्शक अब वैश्विक सिनेमा से परिचित हो चुके हैं. अब हम कुंए के मेंढक नहीं रहे. मांग ने दर्शकों की पसंद को बदला है, अब वे बेहतर विषयवस्तु की मांग करते हैं, क्योंकि उन्हें पता है कि वे शिक्षित हैं और विभिन्न विषयों वाली फिल्मों की समझ रखते हैं.

प्रियंका ने अपनी आने वाली फिल्म दिल धड़कने दो के प्रचार कार्यक्रम के दौरान कहा, इसलिए अब विषयवस्तु आधारित फिल्में बन रही हैं. फिल्म जगत एक आईना है, जो यह दर्शाता है कि दर्शक क्या देखना चाहते हैं. पीकू और तनु वेड्स मनु जैसी महिला प्रधान फिल्मों की कामयाबी इस बात का सबूत है.

Related Posts: