bpl3भोपाल,  त्रिशला नंदन वीर की जय बोलो महावीर के जयकारों से गूंजी. मदिरों में सुबह से ही भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा, अहिंसा के प्रणेता भगवान महावीर की जन्मजयंती के अवसर पर राजधानी के मंदिरों में भगवान महावीर के अभिषेक विशेष पूजा अर्चना के साथ प्रभात फेरियां निकाली गईं.

शाम को महाआरती और आकर्षक पालने सजाए गए, पालने में विराजमान बालक महावीर को झूला झुलाने में भक्तों में होड़ मची हुई थी. मुख्य आयोजन भगवान महावीर की विशाल भव्य शोभा यात्रा चौक जैन मंदिर से श्री दिगंबर जैन पंचायत कमेटी ट्रस्ट के बैनर तले प्रारंभ हुई. सकल दिगंबर एवं श्वेतांबर समाज की संयुक्त शोभायात्रा का शुभारंभ पंचायत कमेटी ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रमोद हिमांशु ने पूजा-अर्चना कर किया.

शोभा यात्रा में सबसे आगे 51 केसरिया दर्म ध्वजाएं लहराती हुई विश्व शांति और परस्पर बंधुत्व का संदेश दे रही थीं. सुसज्जित बग्गियों में जैन आचार्यों के चित्र विराजमान थे, जैनम दिव्य घोष एवं नंदीश्वरम दिव्य घोष के कार्यकर्ता वाद्य यंत्रों द्वारा जयकारे लगा रहे थे. केसरिया रंग में सराबोर भक्त चंवर ढुराकर भगवान की भक्ति कर रहे थे. उपाध्याय निर्भय सागर महाराज के संघ सानिध्य में निकली शोभायात्रा में भगवान महावीर के पांच रथ श्रद्धा और आस्था के केंद्र थे. मार्ग में जगह-जगह अनेक राजनैतिक, सामाजिक और व्यापारिक संगठनों ने पुष्प वर्षा कर शोभा यात्रा का स्वागत किया.

प्रवक्ता अंशुल जैन ने बताया कि शोभा यात्रा नगर के विभिन्न मार्गों से होती हुई चौक जैन मंदिर में समाप्त हुई. शोभायात्रा में सांसद मेघराज जैन, महापौर आलोक शर्मा, विधायक आरिफ अकील, सुरेंद्र नाथ सिंह, पंचायत कमेटी ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रमोद हिंमांशु, श्वेतामंबर समाज के नरेंद्र बोथरा आदि गणमान्य नागरिकों ने शामिल होकर भगवान की आरती उतारी.

इस अवसर पर जयकारों के साथ भगवान महावीर का अभिषेक और शांतिधारा की गई. प्रवक्ता जैन ने बताया कि आचार्य आर्जव सागर महाराज के सानिध्य में उमराव दूल्हा बाग जैन मंदिर में महावीर जयंती श्रद्धाभक्ति के साथ मनाई गई. इस अवसर पर भगवान महावीर की विशेष पूजा-अर्चना श्रद्धालुओं ने की, टीटी नगर जैन मंदिर से भगवान महावीर की शोभा यात्रा निकली जो विभिन्न मार्गों से होती हुई कीर्ति स्तंभ पर समाप्त हुई. नगर के प्रमुख नंदीश्वर जिनालय लालघाटी, पिपलानी, अशोका गार्डन, शंकरा चार्य नगर, कोहेफिजा, प्रोफेसर कालोनी सहित राजधानी के सभी मंदिरों में श्रद्धाभक्ति और आस्था का अभूतपूर्व संगम है.

Related Posts: