SHRIRAMपटना,  आपने फिल्म ओ माई गॉड तो देखी होगी. फिल्म में कांजी भाई नाम के शख्स ने भगवान पर केस दर्ज कराता है. फिल्म व्यंग्य पर आधारित थी.
ये तो बात फिल्म की हो गयी लेकिन आपने कभी इस तरह की कहानी हकीकत में नहीं सुनी होगी. लेकिन बिहार के सीतामढ़ी से जो खबर सामने आ रही है उसे सुनने के बाद यह फिल्म हकीकत में तब्दील होती नजर आयेगी.

बिहार के सीतामढ़ी में एक मामला ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट श्याम बिहारी के अदालत में आया है. एक स्थानीय वकील ठाकुर चंदन सिंह ने कोर्ट में मामला दर्ज कराया है. केस में भगवान राम पर अपनी पत्नी सीता के साथ उत्पीडऩ का आरोप लगाया गया है. चंदन का तर्क है कि भगवान राम ने एक धोबी के कहने पर अपनी पत्नी सीता को घर से बाहर निकाल दिया और जंगल में रहने के लिए मजबूर कर दिया. यह माता सीता के साथ अत्याचार है. चंदन ने कहा, उनका घर माता सीता की जन्मभूमि मिथिला में है.

चंदन का कहना है कि भगवान राम ने मिथिला की रानी सीता के साथ अत्याचार किया है इसलिए उन्होंने यह केस दर्ज कराया है. चंदन का कहना है कि उनका मकसद केवल माता सीता को न्याय दिलाना है. किसी की भावना को ठेस पहुंचाने का उनका कोई इरादा नहीं है. चंदन ने कहा महिला उत्पीडऩ त्रेता युग में ही आरंभ हो गया था. इसलिए जब त्रेता युग की नारी को न्याय नहीं मिलता, तब तक कलियुग की नारी को न्याय नहीं मिल सकता है. इधर इस मामले पर सुनवाई कल होना है.

Related Posts: