vid1वाशिंगटन,  भारत के हरित क्रांति के जनक एम एस स्वामिनाथन ने कहा कि भविष्य उन देशों का है जहां अनाज है न कि बंदूक. साथ ही कहा कि भारत को कृषि क्षेत्र को ज्यादा प्राथमिकता देनी चाहिए, यह उसकी अर्थव्यवस्था की रीढ है.
स्वामिनाथन ने अमेरिका की एक विचार संस्था सेंटर फॉर स्ट्रेटेजिक एंड इंटरनैशनल स्टडीज में अपनी प्रस्तुति के बद एक सवाल के जवाब में कहा ‘कृषि को और प्राथमिकता देने की जरुरत है. विज्ञान को और प्राथमिकता चाहिए. वैज्ञानिक संस्थाओं को और स्वायत्तता चाहिए. ऐसी स्थिति होनी चाहिए कि लोग समस्याओं को सुलझा सकें. अपनी प्रस्तुति के दौरान स्वामिनाथन ने कहा कि किस तरह सरकार की नीति भूख खत्म करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में भूमिका निभाती है.

स्वामिनाथन ने अपनी प्रस्तुति में उन्होंने जलवायु परिवर्तन से निपटने और इसके प्रति अनुकूलन और मौसम के प्रति लचीले बीज तथा प्रतिभागी स्थानीय अनुसंधान का भी आह्वान किया. स्वामिनाथन ने कहा कि सतत विकास के लक्ष्य के लिए स्वस्थ समुद्र महत्वपूर्ण हैं. उन्होंने कहा ‘पृथ्वी पर 97 प्रतिशत जल है और हम इसके जरिए बहुत से खाद्य उत्पाद उगा सकते हैं.

Related Posts: