Tuesday. UNI PHOTO-29U

Tuesday. UNI PHOTO-29U

वाशिंगटन,  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान भारत और अमेरिका ने लॉजिस्टिक्स एक्सचेंज सपोर्ट मेमोरैंडम आॅफ एग्रीमेंट (लेमोआ) समझौते को अंतिम रूप दे दिया है। समझौते के तहत दोनों देश जरूरत पड़ने पर एक दूसरे के सैन्य-तंत्र का इस्तेमाल वैश्विक स्तर पर कर सकेंगे।

अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय व्हाइट हाउस में श्री मोदी और राष्ट्रपति बराक ओबामा के बीच हुई द्विपक्षीय शिखर बैठक में संयुक्त बयान जारी कर इस ऐतिहासिक लेमोआ समझौते पर सहमति की घोषणा की गयी। दोनों नेताओं ने लेमोआ समझौते को अंतिम रूप देने का स्वागत किया है।

अमेरिका के रक्षा मंत्री एशटन कार्टर के गत अप्रैल में भारत यात्रा के दौरान दोनों देशों की ओर से लेमोआ समझौते के लिए सैद्धांतिक रूप से सहमति बनी थी। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पिछले महीने इसके संकेत दिये थे कि लेमोआ समझौते को लेकर दोनों देशों के बीच काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि पिछली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की ओर से इस मुद्दे पर की जा रही बातचीत से यह पूरी तरह अलग है।

Related Posts: