pranabअकरा,   भारत और घाना के बीच राजनयिक और आधिकारिक पासपोर्ट धारकों के लिए वीजा समाप्त करने और एक संयुक्त आयोग की स्थापना सहित तीन समझौते पर आज हस्ताक्षर किए गए। तीन अफ्रीकी देशों की यात्रा के पहले चरण में यहां पहुंचे राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी और घाना के रााष्ट्रपति जॉन द्रमानी महामा के बीच प्रतिनिधि स्तर की वार्ता के बाद इन समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।

समझौते के मुताबिक संयुक्त आयोग दोनों देशों के बीच बहुआयामी संबंधों की विभिन्न पहलुओं की अनिवार्य रूप से समीक्षा करेगा। आयोग की पहली बैठक की तिथि के संबंध में बाद में निर्णय लिया जाएगा। तीसरा समझौता दोनों देशों में विदेश सेवा संस्थानों के बीच राजनयिक प्रशिक्षण में सहयोग बढाने के लिए किया गया है।

श्री मुखर्जी ने कल अपने संबोधन में घाना को आश्वासन दिया था कि भारत विकास की उसकी यात्रा में हरसंभव मदद करेगा। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत और अफ्रीका को सही स्थान देने और आतंकवाद की समस्या को हल करने के लिए एकसाथ काम करने पर भी जोर दिया था।उन्होंने कहा कि भारतीय कंपानियां घाना में निवेश करने के लिए तैयार हैं।

दोनों देशों के द्विपक्षीय व्यापार एवं निवेश में सतत वृद्धि हुई है। घाना में भारत का निवेश अब तक बढ़कर एक अरब डॉलर पर तथा द्विपक्षीय व्यापार तीन अरब डॉलर तक पहुँच गया है।

Related Posts: