बैंकाक,  समुद्री सीमा साझा करने वाले भारत और थाईलैंड ने आज एक दूसरे की समुद्री सीमा जागरूकता को बढाने के लिए नौवहन पर ऐसी सूचनाओं की पहचान की जिनका आदान प्रदान किया जा सकता है। साथ ही जहाज निर्माण परियोजनाओं में द्विपक्षीय सहयोग की संभावनाएं खगालने पर सहमति व्यक्त की। रॉयल थाई नेवी के कमांडर इन चीफ एडमिरल क्रैशों चानसुवानित के न्यौते पर चार दिवसीय यात्रा पर आए नौसेना प्रमुख एडमिरल आर के धवन ने थाइलैंड सरकार और थाई सशस्त्रबलों के वरिष्ठ अधिकारियों से उच्च स्तरीय बातचीत की। दोनों पक्षों ने दोनों नौसेनाओं के बीच वर्तमान सहयोग की समीक्षा की और वे उसे बढ़ाने पर सहमत हुए।

समुद्री व्यापार पर दोनों देशों की उच्च निर्भरता और समुद्री क्षेत्र में आने वाली चुनौतियों पर ध्यान देते हुए दोनों पक्षों ने एक दूसरे की समुद्री सीमा जागरूकता को बढाने के लिए नौवहन पर उन सूचनाओं की पहचान की जिनका आदान प्रदान किया जा सकता है। उन्होंने समन्वित गश्ती एवं समुद्री लूटपाट के विरूद्ध कदम उठाने जैसे तात्किालिक विषयों पर भी चर्चा की। उन्होंने समुद्र संबंधी सर्वेक्षण में सहयोग की संभावनाओं पर भी गौर किया।