27manavsangrahalayaभोपाल, 27 मार्च.इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय के राजभाषा अनुभाग द्वारा देशज संस्कृति अध्ययन परिचर्चा, झारखण्ड के विशेष सन्दर्भ में आयोजित की गई.

इस परिचर्चा की अध्यक्षता प्रो. सुचेता सेन चौधुरी द्वारा की गई तथा मुख्य अतिथि डॉ मंगला अनुज थी. प्रो चौधुरी ने कहा कोई भाषा सिखने में आनंद मिले तो सीखना चाहिए,साठ साल में सभी कस्बो को लाइब्रेरी नहीं मिला परन्तु हिंदी सिनेमा ने हिंदी सिखाने का कार्य कर दिखाया जो सरकार नहीं कर पायी.डॉ मंगला अनुजा ने कहाँ Óअपनी बोल-चल की भाषा का ही उपयोग करना चाहिएÓ, उन्होंने सन 1511 से लेकर वर्तमान तक के हिंदी भाषा के विकास पर प्रकाश डालते हुआ कहाँ की सोशल मीडिया विचार व्यक्त करने का सशक्त माध्यम है.

Related Posts: