धारा 144 लगी रहेगी

भिंड,

कतिपय संगठनों द्वारा कल भारत बंद के आह्वान के दौरान लगाए गए कर्फ्यू में पूरी तरह से शांति रही। सुबह होते ही लोगों को घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी गयी। शांतिपूर्ण बंद के बाद कलेक्टर इलैया राजा टी ने कल शाम छह बजे कर्फ्यू स्थाई तौर पर खत्म कर दिया, लेकिन धारा 144 लागू रहेगी। हालांकि कल उन लोगों को कर्फ्यू से परेशानी हुई, जिनके घरों में शादियां थीं।

एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में दो अप्रैल को भारत बंद के दौरान हुई हिंसा में चार लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद 10 अप्रैल को संभावित बंद के चलते प्रशासन ने सख्ती दिखाई। इससे 10 अप्रैल के एक दिन पहले ही कर्फ्यू लगा दिया।

जिले में किसी भी प्रकार के धरना, प्रदर्शन, रैली और जुलूस की अनुमति नहीं दी गयी। कर्फ्यू के दौरान जहां शहर का बाजार पूरी तरह से बंद रहा। वहीं लोगों को घर से बाहर निकलने की भी अनुमति नहीं दी गयी।

कर्फ्यू के दौरान जिलेभर में महापुरुषों की प्रतिमाओं की कडी सुरक्षा रही। अनुसूचित जाति की बस्तियों में डॉ भीमराव अंबेडकर के अलावा बाजार में लगी महापुरुषों की प्रतिमाओं की सुरक्षा को लेकर कलेक्टर ने जहां पटवारी, नगरपालिका के आरआई, ग्राम पंचायत के सचिव, रोजगार सहायक आदि को तैनात किया। वहीं पुलिस अधीक्षक ने भी सभी प्रतिमाओं पर दो से चार जवानों को तैनात किया था।

जिले में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए कलेक्टर ने सात बदमाशों पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की है। साथ एक बदमाश प्रदीप यादव निवासी लुहारपुरा हाल बेहट रोड मौ को जिलाबदर किया है।

दो अप्रैल को भारत बंद में हुई हिंसा के बाद पुलिस अब तक विभिन्न थानों में 44 केस दर्ज कर चुकी है।इनमें 6045 को आरोपी बनाया गया है। जिसमें 295 आरोपी नामजद और 5750 अज्ञात हैं। इनमें 147 को गिरफ्तार कर जेल भेजा चुका है।

इसके अलावा शांति भंग करने के आरोप में 100 लोगों को जेल भेजा गया है। जबकि 1683 लोगों पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गई है। वहीं 14 हजार 517 हथियार थानों में जमा कराए जा चुके हैं।

भिंड में यह दूसरी बार कर्फ्यू लगाया गया है। पहली बार वर्ष 1984 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की मौत के बाद देशभर में भड़के दंगे के बाद छह दिन का कर्फ्यू लगाया गया था।

शहर के व्यापारी राकेश जैन बताते हैं कि 1984 में पहली बार पता लगा था कि कर्फ्यू क्या होता है। उस समय छह दिन रहे कर्फ्यू में इतनी सख्ती नहीं थी, जितनी इस बार की गई। इस बार सबसे लंबा नौ दिन तक कर्फ्यू रहा। इससे पहले वर्ष 1992 में धारा 144 लागू रही थी।

Related Posts:

मुख्यमंत्री ग्लोबल इन्वेस्टर मीट से पहले निवेश की भरपूर संभावना
मंगल-पुष्य नक्षत्र में बाजार हुए गुलजार
आशा कार्यकर्ता एनआरएचएम के नाम पर ठगी का शिकार
मध्यप्रदेश में प्रति व्यक्ति पर है औसतन 14 हजार रुपए कर्ज
कहीं लाठीचार्ज तो कहीं चुनाव रद, बरकतउल्ला विवि, आगर मालवा में लाठी चार्ज, जबलपु...
कांग्रेस ने दी एटीएम को श्रद्धांजलि