bhuriyaझाबुआ,  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के रतलाम के नवनिर्वाचित सांसद कांतिलाल भूरिया ने आज पेटलावद हादसे के मुख्य आरोपी राजेन्द्र कासवा की डीएनए रिपोर्ट पर संदेह जताते हुए कहा कि घटना के 85 दिनों के बाद उसकी डीएनए रिपोर्ट आना संदेह पैदा करती है.

भूरिया ने यहां पत्रकारों से चर्चा में दावा करते हुए कहा कि इंदौर के एमवाय अस्पताल में कासवा के शरीर के अंग रखे गए थे और उनका दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) भेजकर डीएनए टेस्ट करवाना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ जो कई सवाल खडे करता है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने आज कासवा के रखे अंगो को उसके परिजनों की उपस्थित में इंदौर स्थित पंचकुईया श्मसान घाट में अंतिम संस्कार कर दिया है. विगत 12 सितंबर को झाबुआ जिले के पेटलावद कस्बे में जिलेटिन से भरे एक मकान में विस्फोट हो जाने से 88 लोग मारे गए थे और लगभग 150 लोग घायल हुए थे.

Related Posts: