यादगारे शाहजहांनी पार्क का जापानी शैली में होगा विकास, सुधरेंगे फव्वारे, बेहतर होगी प्रकाश व्यवस्था

  • निगम आयुक्त ने शहर के विभिन्न पार्कों का किया औचक निरीक्षण

भोपाल,

निगम आयुक्त प्रियंका दास ने उपायुक्त (उद्यान) सुधा भार्गव के साथ फिरदोस पार्क, किलोल पार्क, खुशबू पार्क, वर्धमान पार्क, प्रोमीनाड पार्क, नीलम पार्क, स्वर्ण जयंती पार्क, यादगारे शाहजहांनी पार्क एवं कमला पार्क आदि का औचक निरीक्षण किया. उन्होंने पार्कों में स्थापित कम्पोस्ट यूनिट का अवलोकन किया.

निगम आयुक्त ने खेल उपकरण, सिंचाई व्यवस्था, ओपन जिम, लाईट व सौन्दर्यीकरण का निरीक्षण कर पार्कों को बेहतर बनाने हेतु आवश्यक कार्य कराने के निर्देश दिये. निगम आयुक्त ने यादगारे शाहजहांनी पार्क को जापानी पार्क शैली पर संपूर्ण विकास योजना बनाने तथा उक्त कार्य हेतु आर्किटेक्ट की सेवायें लेने के निर्देश दिये.

निगम आयुक्त प्रियंका दास ने निरीक्षण के दौरान छोटे तालाब के समीप स्थित किलोल नर्सरी की तरफ पाथवे बनाकर सौन्दर्यीकरण कार्य कराने, किलोल नर्सरी के हाईडेंट पर सीसीटीवी कैमरा लगाये जाने, फिरदोस पार्क नर्सरी के बीच चेन लिंक जाली लगाये जाने साथ ही फिरदोस पार्क में महिलाओं के शौचालय का निर्माण प्राथमिकता के आधार पर कराये जाने के निर्देश दिये.

निगम आयुक्त ने निरीक्षण के दौरान समस्त पार्को के बंद पड़े फुव्वारों को सुधरवाकर तत्काल प्रारम्भ कराये जाने, समस्त पार्कों की प्रकाश व्यवस्था को बेहतर बनाने, पार्कों के डस्टबिनों एवं बैंचो की आवयश्यकतानुसार रिपयेरिंग एवं पेंटिंग कराने, किलोल पार्क और वर्धमान पार्क के मुख्यद्वार बनाने एवं उन पर भोपाल नगर निगम का बोर्ड लगवाने के निर्देश दिये.

निगम आयुक्त ने बड़े तालाब के किनारे प्रोमीनाड में अतिरिक्त रूप से जैविक खाद्य ईकाई स्थापित किये जाने और बड़े तालाब के किनारे प्रोमीनाड की पहाड़ी पर बोगनवेलिया के पौधे लगाये जाने के साथ ही बेतरतीब बढ़ी शाखाओं की कटाई कराने के निर्देश दिये.

पार्कों में भी बनेंगीं जैविक खाद इकाईयां

नगर निगम भोपाल द्वारा ठोस अपशिष्ठ प्रबंधन नियम 2016 के अनुसार प्रत्येक पार्क से उत्पन्न होने वाले हरे कचरे के निष्पादन हेतु कार्य योजना अनुसार जैविक खाद्य ईकाई की स्थापना के लिये शहर के विभिन्न पार्कों में स्थलीय कम्पोस्ट यूनिट का निर्माण किया जा रहा है.

इससे बनने वाली खाद्य के उपयोग हेतु संबंधित उद्यान अधिकारी को आदेशित किया गया है कि स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 की तैयारी हेतु निगम द्वारा पूर्व से ही शहर में स्थापित विभिन्न विभागों के गार्डनों में भी उपरोक्त खाद्य ईकाईयां स्थापित की जा रही हैं.

प्रथम चरण में ऐसे गार्डन जिनमें प्रतिदिन 100 किलो से अधिक हरित कचरा उत्सर्जित होता है उनके निष्पादन हेतु 58 गार्डनों का चयन किया गया है शेष छोटे गार्डनों को बड़े गार्डनों से जोड़कर 12 अन्य जैविक खाद्य ईकाईयों से जोड़कर उपरोक्त हरित कचरे का वैज्ञानिक तरीके से निष्पादन कर उपजाऊ जैविक खाद्य में परिवर्तित किया जायेगा जिससे कि गार्डनों में आवश्यकतानुसार उपरोक्त तरल खाद्य तथा जैविक खाद्य का उपयोग किया जायेगा.

उपरोक्त परियोजना अंतर्गत हरे कचरे का स्थलीय कम्पोस्ट यूनिट बनाकर निष्पादित करने हेतु स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत निर्देशित किया गया है.

Related Posts: