mp9भोपाल, पश्चिम मध्य रेल के भोपाल मण्डल परिक्षेत्र से संबंधित संसद सदस्यों के साथ उच्चस्तरीय बैठक का आयोजन होटल नूर-उस-सबाह पैलेस,भोपाल में संपन्न हुआ.

बैठक में उपस्थित संासद अनिल माधव दवे ने भोपाल-बैरसिया-सिरोंज-गुना नई रेल लाइन बनाने व मण्डल पर नीर रेल का उपयोग करने के सुझाव दिये.सांसद आलोक संजर भोपाल ने भोपाल-पूना, भोपाल-मुंबई एवं भोपाल छपरा के मध्य नई टे्रन चलाने व भोपाल-प्रतापगढ़ एक्सप्रेस को प्रतिदिन चलाने, शताब्दी एक्सप्रेस खाने की क्वालिटी पर ध्यान देने एव बैरागढ़ स्टेशन को भोपाल मण्डल में शामिल करने के सुझाव दिये . उदय प्रताप सिंह सांसद,होशंगाबाद ने इटारसी स्टेशन पर यात्री सुविधाओं में विस्तार करने, इटारसी में बेस किचन खोलने,पटना-पुणे-पटना एक्सप्रेस का इटारसी में हाल्ट देने एवं भोपाल-इटारसी के मध्य मेमू चलाने के सुझाव दिये.श्रीमती ज्योति धुर्वे बैतूल ने खिरकिया, टिमरनी, हरदा स्टेशनों पर पीने के पानी जैसी यात्री सुविधाएॅं उपलब्ध कराने,टिमरनी में नागपुर-भुसावल का हाल्ट प्रदान करने एवं हरदा स्टेशन पर कवर ओवर शेड लबाने के सुझाव दिये . लक्ष्मीनारायण यादव सांसद,सागर ने शताब्दी एक्सप्रेस का बीना स्टेशन, मण्डीबामोरा में पातालकोट व इंटरसिटी का हाल्ट प्रदान करने, सिरोंज में पी.आर.एस. खोलने व बीना(मालखेड़ी) स्टेशन के प्लेटफॉर्म को हाई लेवल करने के सुझाव दिये. उक्त बैठक के दौरान विधायक हुजूर रामेशवर शर्मा ने बैरागढ़ स्टेशन को भोपाल रेल मण्डल में शामिल करने एवं भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुये सूखीसेवानिया स्टेशन को विकास के लिये चिन्हीत करने हेतु महाप्रबंधक,पश्चिम मध्य रेल को ज्ञापन सौंपा .

रेल महाप्रबंधक रमेश चंद्रा ने उपस्थित संसद सदस्यों को जानकारी देते हुए कहा कि हबीबगंज स्टेशन को और अच्छा बनाने के लिये वित्तीय निविदा शीघ्र बुलाई जा रही है.ग्वालियर-गुना-मक्सी रेलखण्ड(400 कि.मी.) का दोहरीकरण का सर्वे कार्य प्रगति पर है .इस वित्तीय वर्ष के अप्रैल से सितम्बर तक की अवधि में गत वर्ष की रेलवे आय सराहनीय रही है.महाप्रबंधक ने यात्री सुविधाओं पर प्रकाश डालते हुये माननीय सांसदों को रेलवे द्वारा यात्रियों को स्टेशनों पर दी जाने वाली सुविधाओं के बारे में बताया.

इसके अतिरिक्त पश्विम मध्य रेल पर रेल मंत्रालय द्वारा स्वीकृत सर्वे कार्य भी तेजी से किये जा रहे हैं. इसमें -गुना-एरॉन-सिरोंज-बसौदा-विदिशा (120 कि.मी.), भोपाल-सागर-छतरपुर-खजुराह ो(320कि.मी.),ब्यावरा-राजगढ़-बीना(147कि.मी.),बारां- शिवपुरी (150 कि.मी.), जबलपुर-उदयपुरा-सागर (246कि.मी.), जबलपुर-इंदौर (450 कि.मी.) एवं आष्टा से भोपाल(165 कि.मी.) के बीच नई रेल लाईनें हैं. पश्चिम मध्य रेल को पिछले दो वर्षो से 2013.14 एवं 2014.15 के लिये रेलवे बोर्ड की ओवर इफीशियेंशी शील्ड (पंडित गोविन्द वल्लभ पंत शील्ड) प्राप्त हुई.

Related Posts: