लखनऊ,  मध्य प्रदेश के मंदसौर में हिंसक प्रदर्शन अौर पुलिस फायरिंग में किसानो की मृत्यु पर दु:ख व्यक्त करते हुए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने राज्य की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर दमनकारी रवैया अपनाने का आराेप लगाया है।

सुश्री मायावती ने कहा कि केन्द्र और भाजपा शासित राज्यों में गरीबों, मज़दूरों, किसानों और अन्य मेहनतकश लोगों के प्रति विरोध एवं दमनकारी रवैया समाप्त नहीं हो रहा है। मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र एवं हरियाणा आदि राज्यों के किसान अपनी फसल की उचित क़ीमत आदि की जायज़ माँगों को लेकर आन्दोलन कर रहे हैं, उन पर भाजपा की सरकार लाठियाँ एवं गोलियाँ बरसा रही है। यह दुःखद एवं शर्मनाक है।

उन्होने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था की रीढ किसानो की हालत सरकारी उदासीनता के कारण बदहाल है। देश के करोड़ों गरीब , मजदूर और किसान वर्ग के लोग विभिन्न प्रकार के कर्ज के बोझ तले दबे हुये हैं। भाजपा सरकार इनके कर्ज माफी की बार-बार घोषणा करती है मगर पूरा नहीं करती। सरकार को अपना वायदा निभाना चाहिये और विदेशाें से कालाधन वापस लाकर देश के प्रत्येक गरीब परिवार के हर सदस्य को 15 से 20 लाख रुपये देने के अपने चुनावी वायदे को पूरा करना चाहिए।

किसानों की कर्ज माफी के सम्बंध में केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार को भी आगे आना चाहिये और अपने सहयोग को प्रभावित राज्यों में केवल अतिरिक्त सुरक्षा बल भेजने तक ही सीमित नहीं रखना चाहिये।

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि बसपा की मध्य प्रदेश यूनिट के लोग किसानों की माँगों के समर्थन में उनके साथ खडे हैं और उनसे पूरी सहानुभूति रखते हैं लेकिन वहाँ भाजपा सरकार होने के कारण पीड़ित परिवारों से नहीं मिल सकते। देश के करोड़ों ग़रीबों, मज़दूरों, किसानों व अन्य मेहनतकश तबकों के प्रति भाजपा सरकार का रवैया विरोधी रहा है। यही कारण है कि मोदी सरकार ने केन्द्र में अपनी सरकार बनते ही धन्नासेठों के पक्ष में सबसे पहले नया भूमि अधिग्रहण कानून बनाकर किसानों को उनकी ज़मीन से बेदखल करने का प्रयास किया।

Related Posts: