rainभोपाल,   मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में अनेक स्थानों पर अतिवृष्टि और बाढ के कारण उत्पन्न विपरीत स्थितियों के बीच प्रशासनिक अमले को राहत और बचाव के बेहतर प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं। अतिवृष्टि और बाढ के कारण राज्य में आठ लोगों की मौत हो चुकी है और लगभग चार हजार लोगों को सुरक्षित बचाया गया है।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार श्री चौहान ने आज यहां उच्च स्तरीय बैठक में वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिये कि किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिये आपदा प्रबंधन के दल तैयार रहें और सूचना मिलते ही तत्काल कार्रवाई करें। किसी भी स्थिति में प्रभावितों को परेशानी नहीं हो। मुख्यमंत्री ने बैठक में प्रदेश में वर्षा से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा भी की। बैठक में राजस्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता भी उपस्थित थे।

श्री चौहान ने कहा कि स्थिति पर लगातार नजर रखी जाए और बाढ़ से प्रभावित होने की स्थिति में तत्काल राहत की कार्रवाई शुरू की जाए। सभी जिलों में सावधानी रखने की जरूरत बताते हुए श्री चौहान ने कहा कि नदी नालों में पानी बढ़ते ही लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाए। आपदा प्रबंधन के लिये बनाये गये कंट्रोल रूम 24 घंटे चालू रहें। साथ ही बांधों का पानी एक साथ नहीं छोडा जाए।

सूत्रों के मुताबिक बैठक में बताया गया कि प्रदेश में अति वर्षा से प्रभावित रीवा, सागर और भोपाल संभाग में अब स्थिति नियंत्रण में है। सतना जिले में 600 लोगों को राहत शिविरों में रखा गया है। सतना में 5 लोगों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र से हेलीकाप्टर द्वारा निकाला गया। आपदा प्रबंधन के दलों द्वारा पूरे प्रदेश में पिछले तीन दिन में 4 हजार लोगों को बचाया गया है। भोपाल में कल रात से अब तक आठ इंच से अधिक वर्षा हुयी है, जिससे कई निचली बस्तियों में पानी भरने की सूचना है।

सूत्रों ने कहा कि प्रशासन के दलों द्वारा राहत की कार्रवाई रात से ही की जा रही है। वहीं होशंगाबाद क्षेत्र में तवा बांध से 2 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है जिससे होशंगाबाद में नर्मदा का जलस्तर बढ़ेगा। वहां एेहतियातन दो निचली बस्तियों को खाली कराया जा रहा है। प्रदेश में अति वर्षा के कारण अब तक 8 लोगों की मृत्यु हुयी है। इसमें भोपाल में 2 तथा टीकमगढ़, रीवा, झाबुआ, बैतूल, पन्ना और रायसेन में एक-एक लोग शामिल हैं। बाढ़ नियंत्रण के लिये कंट्रोल रूम 1079 और 0755-2441419 चौबीस घंटे कार्यरत हैं।

बैठक में गृह विभाग अपर मुख्य सचिव बी.पी.सिंह, पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला, पुलिस महानिदेशक होमगार्ड मैथिलीशरण गुप्त, प्रमुख सचिव राजस्व के.के. सिंह, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन मलय श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव इकबाल सिंह बैंस और एस.के. मिश्रा, प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजोरा तथा आयुक्त नगरीय प्रशासन विवेक अग्रवाल, कलेक्टर भोपाल निशांत बरबड़े, नगर निगम आयुक्त श्रीमती छवि भारद्वाज सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

Related Posts:

पीएम-सरकार पर हमलों की साजिश
सबसे बड़ी डील: गोदरेज प्रापर्टीज ने 1,480 करोड़ में बेचा अपना ऑफिस स्पेस
मालगाड़ी चालक को चाकू अड़ाकर केबल काटी, 12 घंटे खड़ी रही गाड़ी
वर्षा के पूर्वानुमान की हमारी सबसे बेहतर प्रणाली: हर्ष बर्धन
बुन्देलखंड भी जायेगी जल-ट्रेन
तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय विचार महाकुंभ का शुभारंभ - समतायुक्त और शोषणमुक्त हो व्...