hardikनीमच,   गुजरात में पाटीदार आंदोलन से समूचे देश को अपने समाज के आंदोलन की भीड़ का जलवा दिखाकर समाज के हिरो बने हार्दिक पटेल का मुख्य आतिथ्य रतलाम में होने वाली पाटीदार समाज की महापंचायत में अपनी दहाड़ से मध्यप्रदेश में 11 अक्टूबर हो हुंकार भरेगा.

मध्यप्रदेश पाअीदार समाज को अन्य राज्यों की तरह पिछड़ा वर्ग का 27 फिसदी आरक्षण देने, भोपाल, राजगढ़ व सिहोर जिले के पाटीदार समाज को पिछड़ा वर्ग का लाभ देने, मुख्यमंत्री द्वारा शुजालपुर अधिवेशन में की गई घोषणानुसार शिक्षण संस्थान को अनुदान देने आदि मांगों को लेकर मध्यप्रदेश पाद्यटीदार समाज भी लामबंद होकर 11 अक्टूबर को रतलाम में महापंचायत बुला रहा है जिसके मुख्य अतिथि पाटीदार समाज गुजरात के आंदोलन का नेतृत्व करने वाले हार्दिक पटेल होगें तथा अध्यक्षता पाटीदार समाज संगठन मध्यप्रदेश के अध्यक्ष महेन्द्र पाटीदार होगें. उक्त खुलासा नीमच जिला पाटीदार समाज के बैनर तले आयोजित पत्रकार वार्ता में महेन्द्र पाटीदार ने करते हुए समाज के साथ प्रदेश सरकार द्वारा की जा रही वादा खिलाफी व उसे उसके हक से वंचित करने के आरोप लगाने के साथ ही यह आरोप भी लगाया राम मंदिर बनाने का बढ़-चढ़ कर ढिढ़ोरा पीटने वाली भाजपा की प्रदेश सरकार उज्जैन में राममंदिर पाटीदार समाज की 1.045 हेक्टेयर भूमि हड़प कर बैठी है जिसे वह हमें ना तो वापस देना चाहती है और न ही जिस प्रयोजन के लिये भूमि अधिगृहित की थी वह मूर्त रूप ले सका है.

ऐसे में 1974 को अधिगृहित भूमि पर सरकार स्वामित्व वैसे ही समाप्त हो चुका है. उन्होने यह आरोप भी लगाया कि मुख्यमंत्री ने शुजालपुर में पाटीदार समाज के अधिवेशन में 3 वर्ष पूर्व समाज की शिक्षण संस्थाओं को 5-5 लाख के अनुदान की घोषणा कर वाहवाही तो लूट ली मगर आज तक संस्थाओं को कोई राशी नही मिली. हमारे तीन विधायक प्रदेश में है परन्तु सरकार में उनकी कोई हिस्सेदारी नही है जबकि मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह के कांग्रेस राज में समाज के पास 8 लालबत्ती थी. इस प्रकार पाटीदार ने सरकार को कई आरोपों के कटघरे में खड़ा कर चेताया कि मध्यप्रदेश का पाटीदार समाज अपने हक की लड़ाई के लिये इस महापंचायत के माध्यम से सरकार को विनम्र निवेदन कर रहा है उसके बाद भी अगर सरकार ने हमारे मांगों पर ध्यान नही दिया तो हम अपने शोषण के खिलाफ आंदोलन की राह पकड़ धरना प्रदर्शन, चक्काजाम आदि की और अग्रसर होंगे.