bsnlभोपाल 12 अप्रैल (वार्ता) भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) ने मध्यप्रदेश में इस वर्ष एक हजार करोड रूपए से अधिक का राजस्व अर्जित किया है,जो गत वर्ष की तुलना में छह फीसदी अधिक है।

बीएसएनएल मध्यप्रदेश दूरसंचार परिमंडल के मुख्य महाप्रबंधक डॉ गणेशचन्द्र पाण्डेय ने आज यहां पत्रकारों से चर्चा में बताया कि वर्ष 2015-16 में रिकार्ड एक हजार पांच करोड रूपए का राजस्व अर्जित किया है। यह राजस्व गत वर्ष की तुलना में छह प्रतिशत अधिक है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा बालाघाट जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में 16 मोबाइल टॉवरों का संस्थापन किया तथा भोपाल और इंदौर में एनजीएन तकनीक के 34 नोड्स स्थापित किए गये है। उन्होंने बताया कि इंटरनेट नोड अपग्रेडेशन भी किया गया है।

श्री पाण्डेय ने बताया कि प्रदेश के प्रमुख शहरों में 95 स्थानों पर वाई फाई सुविधा है। उन्होंने बताया कि नेशनल ऑप्टीकल फाइबर नेटवर्क अभियान के अंतर्गत 10 हजार 512 ग्राम पंचायतों को जोडने का लक्ष्य था। इनमें से पांच हजार 104 ग्राम पंचायतों में केबल संस्थापन का कार्य पूर्ण किया गया और 214 ग्राम पंचायते संबंद्ध हुई है। उन्होंने बताया कि 31 आगामी 31 दिसंबर तक यह लक्ष्य हासिल करने की योजना है।

उन्होंने बताया कि आगामी वर्ष में एक हजार सात सौ करोड रूपए का राजस्व अर्जित करने का लक्ष्य रखा गया है जो गत वर्ष की तुलना में 69 फीसदी अधिक है। उन्होंने बताया कि स्टूडेन्ट प्लान, कृषि प्लान, फ्री रोमिंग सुविध और पोस्टपेड 3 जी डाटा परचेज प्लान की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि लैड लाइन के नए एवं पुराने उपभोक्ताओं के लिए वर्तमान में सभी नेटवर्क पर कालिंग की फ्री है, यह सुविधा ब्रॉडबैंड के कॉम्बो प्लान पर भी उपलब्ध है। श्री पाण्डेय ने बतया कि बीएसएनएल शीघ्र ही नेक्स्ट जनरेशन नेटवर्क (एनजीएन) तकनीक पर आधारित चार प्रमुख सेवाए प्रस्तुत करेगा। इसमें ऑल इंडिया आईपी सेन्ट्रेक्स सेवा, मल्टीमीडिया वीडियों कान्फ्रेंसिंग, प्रीपेड फिक्स्ड टेलीफोनी तथा फिक्स्ड मोबाइल टेलीफोनी सुवधाए हैं।

Related Posts:

विषाक्त मध्यान्ह भोजन से 15 बच्चे बीमार
सीबीएसई 10वीं बोर्ड में लड़कियां अव्वल
मप्र को वाटरशेड प्रबन्धन और भूमि विकास का राष्ट्रीय सम्मान
निकाय चुनाव में 76 प्रतिशत मतदान, कई जगह झड़प, भिड़े कार्यकर्ता
कांग्रेस पर शिवराज का जमकर हमला: हमेशा विकास कार्यों की अनदेखी की
अब प्रदेश के पश्चिमी क्षेत्र में वर्षा की झड़ी