mp assemblyभोपाल,  मध्यप्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र आज अनिश्चितकाल के स्थगित कर दिया गया।

आठ दिसंबर से शुरू हुआ यह सत्र 18 दिसंबर तक चलना था, परंतु सभी विधायी कार्य निपट जाने के कारण आज संसदीय कार्य मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने का प्रस्ताव रखा। इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीतासरन शर्मा ने सत्र समापन भाषण में कहा कि सदन ने 2015-16 के तृतीय अनुपूरक को स्वीकृति प्रदान की। विनियोग विधेयक सहित 11 शासकीय विधेयक पारित किए गए।

डॉ शर्मा ने कहा कि सत्र में कुल 2756 प्रश्न प्राप्त हुए, इनमें से 98 प्रश्नों पर लगभग सात घंटे चर्चा हुई। इसमें से 1632 प्रश्न प्रथम बार निर्वाचित सदस्यों ने पूछे। ध्यानाकर्षण की कुल 607 सूचनाएं प्राप्त हुई, उनमें 77 ग्राह्य की गई और 26 पर सदन में चर्चा हुई। कुल 260 याचिकाएं सदन में प्रस्तुत हुई। इस सत्र में लोक लेखा समिति के 205 प्रतिवेदन, सरकारी उपक्रम समिति के 19 प्रतिवेदन, आश्वासन समिति के सात प्रतिवेदन, प्रश्न एवं संदर्भ समिति के चार प्रतिवेदन और गैर सरकारी सदस्यों के विधेयक एवं संकल्पों संबंधी समिति के दो प्रतिवेदन प्रस्तुत किए गए। बड़वानी की घटना पर स्थगन प्रस्ताव और तीन अशासकीय संकल्पों पर भी चर्चा हुई।

डॉ शर्मा ने कहा कि यह सत्र पूरी तरह सफल रहा। प्रश्नों, ध्यानाकर्षण सूचनाओं, स्थगन, बजट और अन्य माध्यमों से की जाने वाली चर्चा सदैव परिणामदायक रहती है। इस सत्र में हुई चर्चाओं के परिणाम भी अच्छे रहे।

सत्र समापन पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सत्र के दौरान सार्थक चर्चा हुई। सदन में चर्चा होती है, तो उसके अच्छे परिणाम आते हैं। चर्चा से प्रतिपक्ष, सदस्य और जनता सभी का फायदा होता है। प्रतिपक्ष प्रश्न उठाकर सत्तापक्ष को कठघरे में खड़ा करता है। हर क्षेत्र की समस्या सामने आती है।
श्री चौहान ने कहा कि वे सदन में हों या न हों, उनकी निगाह हमेशा सदन की कार्यवाही पर लगी रहती थी। जब भी उन्हें लगा कि जनहित का कोई मुद्दा है तो उन्होंने बोलने में कोताही नहीं की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यवाहक नेता प्रतिपक्ष बाला बच्चन के बारे में कहा कि नेता प्रतिपक्ष की अनुपस्थिति में उन्होंने अपना काम काफी अच्छे से किया। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि वे उनकी तारीफ करना चाहते हैं, लेकिन कहीं ये उनके खिलाफ ने चली जाए। श्री चौहान ने संसदीय कार्य मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा की भी तारीफ की।

कार्यवाहक नेता प्रतिपक्ष बाला बच्चन ने कहा कि सदन में अच्छी चर्चा हुई। जनहित के मुद्दों पर प्रतिपक्ष के सदस्यों का साथ सत्तापक्ष के सदस्यों और सत्तापक्ष के सदस्यों का साथ प्रतिपक्ष के सदस्यों ने दिया, ये एक अच्छी परंपरा है। मंत्रियों ने भी अपनी ओर से सदस्यों के प्रश्नों का जवाब देने का प्रयास किया। अधिकारियों को सत्र के दौरान ही निर्देश दिए गए, ये अच्छी बात है।

सभी वक्ताओं ने प्रदेशवासियों को क्रिसमस और नववर्ष की शुभकामनाएं भी दीं। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीतासरन शर्मा ने सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी।

Related Posts: