missileबालेश्वर,  भारत ने इजरायल के साथ संयुक्त रूप से विकसित की गई सतह से हवा में मार करने वाली मध्यम दूरी की मिसाइल का आज तीसरी बार सफल परीक्षण किया। रक्षा विकास एवं अनुसंधान संगठन (डीआरडीओ) के सूत्रों ने ‘यूनीवार्ता’ को बताया कि ओडिशा के एकीकृत परीक्षण रेंज से आज सुबह करीब दस बजकर 25 मिनट पर मिसाइल का तीसरी बार सफल परीक्षण किया।

इसके दो सफल परीक्षण कल किए गए थे जिसमें पहले परीक्षण के तहत मिसाइल से अधिक ऊँचाई में एक लक्ष्य को निशाना बनाया गया और दूसरे परीक्षण में कम ऊँचाई वाले लक्ष्य को निशाना बनाया। मध्यम दूरी की इस मिसाइल को भारतीय वायु सेना के लिए डीआरडीओ और इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज ने संयुक्त रूप से विकसित किया है।

रडार की सहायता से निर्देशित इस मिसाइल ने एक चालक रहित विमान को सफलतापूर्वक निशाना बनाया। इसके साथ ही एक बहुपयोगी टोही एवं खतरे की चेतावनी देने वाले रडार का भी परीक्षण किया गया। यह मिसाइल 70 किलोमीटर के दायरे में प्रहार कर सकती है।

इसे भारत और इजरायल ने मिलकर डिजाइन किया है। इसे नौसेना और वायुसेना में शामिल किये जाने की प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है लेकिन थलसेना में शामिल किये जाने संबंधी अनुबंध को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

Related Posts: