नई दिल्ली,भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह ने पूर्व कप्तान सरदार सिंह की काफी प्रशंसा की है. मनप्रीत ने कहा कि टीम में अनुभवी खिलाडिय़ों के साथ युवा खिलाडिय़ों का अच्छा मिश्रण होना टीम को चैंपियन बनाने में मददगार साबित हुआ.

उन्होंने कहा कि डिफेंस के लिए दिग्गज मिडफील्डर सरदार की मौजूदगी इस टूर्नामेंट में बेहद अहम थी और इससे टीम को काफी मदद भी मिली. दिपसान तिर्की, कोथाजित सिंह, सुरेंद्र कुमार, हरमनप्रीत सिंह और वरुण कुमार जैसे युवा खिलाडिय़ों की मौजूदगी से बैकलाइन संतुलित तो थी, लेकिन मजबूत नहीं थी.

ऐसे में यूरोप दौरे में राष्ट्रीय टीम से बाहर रहे सरदार की इस टूर्नामेंट के लिए टीम में वापसी मददगार साबित हुई. उनके अनुभव से टीम की बैकलाइन को मजबूती मिली. मनप्रीत ने बताया कि सरदार एक अच्छे अनुभवी खिलाड़ी हैं और वह हॉकी गेंद पर नियंत्रण कर सकते हैं और गोल के लिए पास भी दे सकते हैं.

वह अन्य खिलाडि़य़ों की तुलना में अधिक बेहतर तरीके से गेंद को अपने पास रख सकते हैं. इसलिए, हमने उन्हें बैकलाइन में रखा. इसके अलावा, क्योंकि वह एक अनुभवी खिलाड़ी हैं इसलिए, वह बैकलाइन से टीम का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं.

इसी कारण, कोच को लगा कि वह डिफेंस में और भी बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं. अपने नए कोच शुअर्ड मरेन के नेतृत्व और मनप्रीत की कप्तानी में भारतीय टीम ने एशिया कप का खिताब अपने नाम किया.

Related Posts: