इंगलैंड,

फिनलैंड ने जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल को अपने प्रथम अंतर्राष्ट्रीय लैंगिक समानता पुरस्कार से सम्मानित करने का निर्णय लिया है।

फिनलैंड के प्रधानमंत्री जूहा सिपिला ने पुरस्कार की घोषणा करते हुए सुश्री मर्केल का मानवाधिकारों की रक्षक के रूप में वर्णन किया। श्री सिपिला ने विश्वस्तर पर महिलाओं और लड़कियों के लिए सुश्री मर्केल की प्रतिबद्धताओं की सराहना की।

उन्होंने कहा कि इस पुरस्कार से वह दुनिया भर के देशों में लैंगिक समानता के संदेश को मजबूत करना चाहते हैं। सुश्री मर्केल दुनिया की सबसे प्रभावशाली लोगों में से एक हैं और वह कई महिलाओं और लड़कियों के लिए एक उदाहरण हैं।

उन्होंने कहा कि फिनलैंड 1906 में महिलाओं को पूर्ण राजनीतिक अधिकार देने वाला दुनिया का पहला राष्ट्र था।सुश्री मर्केल ने कहा कि इस तरह के सम्मान से खुद को गौरवांवित महसूस कर रही हूं और आगे भी लिंग समानता के लिए काम करती रहूंगी।

Related Posts: