पठानकोट एयरबेस पर पाक आतंकी हमले के कारण भारत और पाकिस्तान के बीच प्रस्तावित विदेश सचिव की वार्ता भारत फिर से रद्द न कर दे इसलिए और अंतरराष्टï्रीय राजनैतिक दबाव में पाकिस्तान में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को उसके 12 साथियों के साथ गिरफ्तार किया है.

यह वही मसूद अजहर है जिसे लगभग 16 साल पहले भारत को अपनी जेल से फिरोती के रूप में छोडऩे को मजबूर होना पड़ा था. पाक के आतंकियों ने नेपाल के काठमांडू से दिल्ली आ रही इंडियन एयरलाइंस की उड़ान का अपहरण कर उसे कंधार तक ले गये थे. तब से यह व्यक्ति और उसका संगठन भारत के विरुद्ध बड़े पैमाने पर शत्रुता के साथ आतंकी कार्यवाहियां करता आ रहा है. हाल ही में पठानकोट एयरबेस पर हमला भी इसी ने इसके जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावरों से कराया है. इसके संगठन को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आई.एस.आई. का पूरा संरक्षण व हथियार दिये जा रहे हैं.

पहले नवाज शरीफ और श्री अटल बिहारी वाजपेयी की वार्ताओं को रोकने के लिये लाहौर वार्ता के समय पाकिस्तान आर्मी ने कारगिल में हमला कराया था. उसी तरह इस बार नवाज शरीफ और नरेंद्र मोदी की लाहौर भेंटवार्ता और उससे उत्पन्न दोनों देशों के बीच सुखद संबंधों को बिगाडऩे के लिये ही पठानकोट पर हमला किया गया. भारत इस बात पर भी गौर कर रहा है कि पठानकोट हमले के तुरन्त बाद ही अफगानिस्तान में चरारे शरीफ स्थित भारतीय काउन्सलेट पर हमला किया गया था. अफगानिस्तान सरकार ने भारत को सूचित किया है कि उस हमले को पाकिस्तान आर्मी के सैनिकों ने किया है. इसी समय जनरल परवेज मुशर्रफ का कहना है कि पठानकोट जैसे आतंकी हमले भारत पर होते रहेंगे. भारत ने अभी वार्ता रद्द नहीं की है लेकिन उसके बारे में अभी निश्चित तौर पर भी कोई होने या न होने का फैसला भी नहीं हुआ है.

पाकिस्तान में इन दिनों राजनैतिक खींचतान मची हुई है. एक ओर नवाज शरीफ की नागरिक सरकार चाहती है कि वार्ता हो और श्री मोदी भी पाकिस्तान की यात्रा पर आएं और दूसरी ओर आतंकी और सेना यह चाहती है कि यह वार्ता असफल कर देने से नवाज शरीफ की सरकार भी असफल हो जायेगी. पाकिस्तान में शीघ्र ही नेशनल असेम्बली के चुनाव आ रहे हैं.

अमेरिका में राष्टï्रपति ओबामा ने अपने पदकाल के आखिरी स्टेट ऑफ यूनियन के संसदीय संबोधन में कहा है कि आने वाले कई दशकों तक पाकिस्तान और अफगानिस्तान अलकायदा व इस्लामी स्टेट जैसे आतंकी संगठनों के नेटवर्क के लिए सुरक्षित पनाहगाह बने रहेंगे. पाकिस्तान तो आतंकियों के लिए जन्नत जैसा है. मु_ïी भर आतंकी कहीं भी कभी भी बड़ा नुकसान कर सकते हैं. ये क्रूर व वहशी है. इन्हें मानव जीवन का कोई अहसास नहीं है.

दुनिया इसके समाधान के लिए अमेरिका की तरफ देख रही है. इस्लामी स्टेट के सरगना बगदादी ने भी मान लिया है कि सारी दुनिया उनके खिलाफ उठ खड़ी हुई है.

Related Posts: