swamiनयी दिल्ली,   दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर अनशन पर बैठे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद महेश गिरि को समर्थन देने पहुंचे भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कल मांग कि यदि अरविंद केजरीवाल नयी दिल्ली नगर पालिका परिषद् (एनडीएमसी) के लॉ अधिकारी की हत्या के मामले में लगाये गये आरोपों के लिए माफी नहीं मांगते है तो दिल्ली सरकार को बर्खास्त कर दिया जाना चाहिये।

श्री स्वामी ने कहा “ अभी तक मैं रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन के पीछे पड़ा था और अब दिल्ली सरकार की बारी है। ” उन्होंने मुख्यमंत्री पर ही नहीं बल्कि उपराज्यपाल नजीब जंग पर भी निशाना साधा और कहा कि वह कानून के तहत कार्रवाई क्यों नहीं करते है। भाजपा सांसद ने श्री जंग को हटाने की मांग की । श्री स्वामी ने कहा कि दिल्ली सरकार तभी बचेगी यदि मुख्यमंत्री श्री गिरि पर लगाये गये आरोपों के लिये माफी मांग लेते है।

उनका कहना था कि राष्ट्रीय हित में दिल्ली सरकार को बर्खास्त कर दिया जाना चाहिये। श्री स्वामी ने कहा कि श्री केजरीवाल अक्सर आरोप लगाने के बाद भाग जाने की नीति अपने राजनीतिक विरोधियों पर करते हैं । उन्हें श्री गिरि पर लगाये गये आरोपों के लिए या तो दस्तावेज दिखाने चाहिये या फिर माफी मांगनी होगी । श्री गिरि आरोपों को साबित करने के लिये मुख्यमंत्री को दी गयी खुली चुनौती स्वीकार नहीं करने पर कल शाम से श्री केजरीवाल के निवास के बाहर धरने पर बैठे हैं। श्री गिरि को समर्थन देने पहुंचे उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी ने भी श्री केजरीवाल पर जमकर निशाना साधा और कहा कि निराधार आरोप लगाना उनकी पुरानी आदत है।

श्री खान की हत्या की जांच कराने के लिये पूर्वी दिल्ली के सांसद श्री गिरि ने आज पुलिस आयुक्त आलोक वर्मा को एक पत्र भी लिखा है और आग्रह किया है कि बिना किसी दबाव के निष्पक्ष जांच करायी जाये और वह इसमें पूरा सहयोग देंगे। श्री केजरीवाल ने श्री खान की हत्या के सिलिसले में उपराज्यपाल को एक पत्र लिखकर श्री गिरि को बचाने के प्रयास का आरोप लगाया था।

भाजपा की दिल्ली इकाई ने भी धरने का समर्थन करते हुए श्री केजरीवाल और आम आदमी पार्टी(आप) को चेतावनी दी है कि वह श्री गिरि के पूरी तरह साथ है और मुख्यमंत्री खुली बहस की चुनौती स्वीकार करें अथवा मनगढंत आरोप लगाने बंद करें ।

श्री केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली पुलिस को श्री गिरि को गिरफ्तार कर हत्या की जांच करनी चाहिये । भाजपा के दबाव के कारण दिल्ली पुलिस जांच नहीं कर रही है । उनका कहना था “ भाजपा का यही अापराधिक न्याय है जो हत्या करें उसे अरविंद के धर के बाहर धरना देने के लिये बैठा दो।”

Related Posts:

तीस्ता सीतलवाड़ की अग्रिम जमानत रद्द
सुको ने जम्मू पीठ में सुनवाई संबंधी अर्जी खारिज की
हाईकोर्ट के फैसले को ऊपरी अदालत में देंगे चुनौती : सिंघवी
पांच लाख रुपए से भी सस्ते मकान देगी सरकार
त्रिपुरा हाईकोर्ट ने एडीसी के दोबारा सीमांकन जारी किया नोटिस
वायु सेना का प्रशिक्षु विमान दुर्घटनाग्रस्त , दोनाें पायलट सुरक्षित