Dayanidhi_Maranनई दिल्ली, 10 अगस्त. मद्रास उच्च न्यायालय ने सोमवार को कथित अवैध टेलीफोन एक्सचेंज मामले में पूर्व दूरसंचार मंत्री दयानिधि मारन की अंतरिम अग्रिम जमानत रद्द की। अंतरिम अग्रिम जमानत रद्द होने से मारन मुश्किलों में फंस गए हैं। न्यायालय ने मारन को सीबीआई के समक्ष आत्मसमर्पण करने के लिए तीन दिन का समय दिया है। सीबीआई ने जुलाई में मद्रास हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर मारन की अंतरिम अग्रिम जमानत को खारिज करने की मांग की थी।

 

Related Posts: