malyaनई दिल्ली, 10 अप्रैल . उद्योग एवं वाणिज्य संगठन एसोचैम ने उद्योगपति विजय माल्या का बचाव करते हुये आज कहा कि बैंकों को विलफुल डिफॉल्टरों के मुद्दे पर आम लोगों के दबाव में आये बिना श्री माल्या के प्रस्ताव को स्वीकार करना चाहिए.

संगठन ने जारी बयान में कहा कि श्री माल्या के प्रस्ताव से पता चलता है कि वह सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों से लिए ऋण का भुगतान करना चाहते हैं. उसने कहा, विलफुल डिफॉल्टरों के बारे में बैंकों एवं भारत सरकार को लोकमत एवं मीडिया रिपोर्टों के दबाव में आये बिना संतुलित ²ष्टिकोण अपनाना चाहिए क्योंकि मीडिया रिपोर्ट कई बार सही या गलत के बहस में अतिरंजित हो जाते हैं. संगठन ने कहा कि बैंकों के समूह का मुख्य ध्यान अपनी उन संपत्तियों को वसूल करना होना चाहिए.

 

Related Posts: