modiनई दिल्ली,  सरकारी बैंकों के 9,000 करोड़ रुपये बकाया चुकाने का दबाव झेल रहे शराब कारोबारी विजय माल्या की भविष्य में मुश्किलें बहुत ज्यादा बढ़ सकती हैं.

खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मुद्दे पर लगातार दो दिनों में दो बार खुलकर बोला है. सोमवार को भी ब्लूमबर्ग इकनॉमिक समिट में बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार और रिजर्व बैंक बकाया वसूलने के लिए बड़े कारोबारी घरानों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रहे हैं. इससे पहले रविवार को मोदी ने कहा
था कि वह बैंकों के लूटे पैसे अमीरों से वापस लेकर ही मानेंगे. मोदी ने रैली में मौजूद भारी भीड़ को भरोसा दिलाया कि उनकी सरकार इन अमीरों से पैसे वापस लेकर ही मानेगी.

दरअसल, प्रधानमंत्री को माल्या मुद्दे पर इसलिए भी बोलना पड़ रहा है क्योंकि जांच के बीच माल्या के देश छोडऩे पर कांग्रेस ने सरकार पर मिलिभगत का आरोप लगाया था.

 

Related Posts:

फिल्मों से ज्यादा विज्ञापन कर रही हैं नेहा
पेट्रोल मूल्यवृद्धि मंहगाई बढ़ाने में आग में घी का काम करेगी
संघ ने फिर उठाया राम मंदिर का मुद्दा
जेएनयू की छात्रा ने लगाया था बदसलूकी का आरोप, कन्हैया पर लगा था जुर्माना
सपा बसपा की मिलीभगत का भ्रामक प्रचार कर रहे है मोदी : मायावती
नवनिर्माण में जल प्रबंधन का आधुनिकीकरण जरूरी : कोविंद